कानपुर, जागरण संवाददाता। जबरदस्त गर्मी के बीच जहां शहर के लोग पानी के लिए परेशान हो रहे हैं वहीं शहर में जगह-जगह वाहन धुलाई केंद्र खुलेआम पानी नालियों में बहा रहे हैं। खुलेआम अधिकारियों की आंखों के आगे यह सब जगह जगह हो रहा है। शनिवार को इसे रोकने के लिए महापौर प्रमिला पांडेय खुद सड़क पर उतरीं और रामबाग, बजरिया में बिना अनुमति चल रहे सात केंद्रों को सील करा दिया। 

छापे के दौरान महापौर ने पाया कि वाहनों से धुलाई के नाम पर ये केंद्र जमकर रुपये तो वसूल ही रहे थे, इसके साथ ही रोज हजारों लीटर पीने योग्य पानी नालियों में बहाया जा रहे थे। महापौर ने इन सभी वाहन धुलाई सेंटरों पर जुर्माना लगवाया। साथ ही दुकानें भी सील करवा दीं। नालियों में पानी बहते देख नाराज महापौर ने संचालकों को फटकार लगाई। शहर के धुलाई सेंटर पर रोज एक करोड़ लीटर से ज्यादा पानी बर्बाद कर रहे हैं। ये एक कार की धुलाई पर 150 रुपये से लेकर 300 रुपये तक में कर रहे हैं। वहीं दोपहिया वाहनों से 50 से लेकर 100 रुपये तक लिए जा रहे हैं। एक कार की धुलाई पर करीब 120 से 200 लीटर पानी खर्च होता है। 

- भीषण गर्मी को देखते हुए वाहन धुलाई सेंटरों पर दो महीने का प्रतिबंध लगाया गया है। इसके बावजूद अगर कोई बिना अनुमति वाहन की धुलाई करते हुए पकड़ा गया तो उसके खिलाफ भारी जुर्माना और कानूनी कार्रवाई की जाएगी। - प्रमिला पांडेय, महापौर, कानपुर नगर।

Edited By: Abhishek Verma