जागरण संवाददाता, कानपुर : समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली (आइजीआरएस) में मुख्यमंत्री संदर्भ को निपटाने में वाणिज्य कर विभाग का कानपुर आफिस सबसे पीछे रहा है। पूरे प्रदेश में मुख्यमंत्री संदर्भ की 10 शिकायतें लंबित हैं, इसमें से सबसे ज्यादा चार शिकायतें कानपुर में लंबित हैं। हालांकि ओवरआल शिकायतें निस्तारण के मामले में कानपुर गाजियाबाद से आगे है।

जनसमस्याओं और शिकायतों के निवारण के लिए आइजीआरएस का जनसुनवाई पोर्टल तैयार किया गया है। इसमें हर तरह की शिकायत के लिए तय समय है लेकिन तमाम संदर्भ ऐसे हैं जिन्हें समय से पूरा ना किए जाने के कारण विभाग की रैंकिंग पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है।

इन हालात से परेशान वाणिज्य कर मुख्यालय ने ऐसे संदर्भो की सूची जारी की है जो लंबित हैं और 31 मार्च को डिफाल्ट की श्रेणी में आ जाएंगे। इसमें मुख्यमंत्री संदर्भ के मामले में सबसे ज्यादा मामले कानपुर में लंबित हैं। ऑनलाइन के मामले में गाजियाबाद और फैजाबाद 11-11 संदर्भो के साथ सबसे पीछे हैं। पीजी पोर्टल में सिर्फ गाजियाबाद, लखनऊ और नोएडा के मामले लंबित हैं लेकिन मात्र एक-एक। शासन ने इस सभी मामलों को निस्तारित कर 31 मार्च तक वेबसाइट पर अपलोड करने के निर्देश दिए हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस