कानपुर, जागरण संवाददाता। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि सड़क सुरक्षा नियमों का पालन करके जनहानि को रोकने के लिए सामूहिक प्रयास की जरूरत है। इसके लिए आमजन, सरकार और मीडिया को आगे आना होगा। स्कूल कालेजों और संस्थाओं में जागरूकता कार्यक्रम चलाए जाएं। जो वाहन जिस कार्य के लिए हैं, उनका इस्तेमाल उसके लिए ही किया जाए। कानपुर के घाटमपुर में हुए हादसे में 26 महिलाओं व बच्चों तथा चकेरी में हाईवे पर हुए हादसे में पांच लोगों की मौत का जिक्र करते हुए उन्होंने दुख जताया। एलएलआर अस्पताल में भर्ती घायलों से मिलकर हाल जाना और अफसरों को दिशा निर्देश भी दिए। 

दुख की घड़ी में सरकार आपके साथ

उनका हेलीकाप्टर रविवार की दोपहर 12:58 बजे पुलिस लाइन हेलीपैड पर उतरा और वह यहां से सीधे एलएलआर अस्पताल पहुंचे। सीएम ने एलएलआर हैलट अस्पताल की इमरजेंसी में भर्ती घायलों से मुलाकात की।पीड़ितों से उन्होंने शोक संवेदना भी व्यक्त की। बोले, घबराएं मत। दुख की इस घड़ी में सरकार आपके साथ है।

मृतकों को राहत कोष दिए दो-दो लाख रुपये

इमरजेंसी वार्ड से बाहर आने के बाद सीएम पत्रकारों से वार्ता में कहा कि अस्पताल में भर्ती साढ़ के कोरथा और चकेरी के अहिरवां में सुबह हुई दुर्घटना के घायल और उनके परिजनों से मिला हूं। दोनों घटनाओं के सभी मृतकों को राहत कोष से दो लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये दिए गए हैं। कहा, घायलों का इलाज तत्परता से किया जा रहा है। सरकार ने ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए समय समय पर कार्यक्रम चलाए हैं।

प्राथमिकता में है सड़क सुरक्षा

उन्होंने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री समेत सभी महत्वपूर्ण लोगों की संवेदनाओं के बारे में भी बताया। पीएम रिलीफ फंड से मिली मदद की जानकारी दी। कहा, अंतिम संस्कार की प्रक्रिया पूरी होने के बाद पीड़ितों को मदद राशि दी जाएगी। उन्होंने कहा कि सड़क सुरक्षा सरकार की प्राथमकिता में है। चिंता का विषय है कि सड़क दुर्घटनाओं में कई जानें जाती हैं, इसे देखते हुए परिवहन विभाग जागरूकता लाने का कार्य करें। उन्होंने अपील करते हुए कहा कि टै्क्टर ट्राली जिस कार्य के लिए है उसमें ही प्रयोग में लाएं।

स्कूल-कालेजों और विभागों में चलें जागरूकता अभियान

उन्होंने सड़क सुरक्षा को लेकर स्कूल कालेज से लेकर महत्वपूर्ण संस्थानों और विभागों को जोड़कर जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिए। सड़क दुघटनाओं से हो रही मौतों को लेकर सरकार जागरूकता कार्यक्रम चलाएगी और तेजी से आगे बढ़ाएगी।  इसके लिए गृह मंत्रालय शिक्षा मंत्रालय सहित अन्य विभागों को सुबह ही निर्देशित किया जा चुका है।

सड़क सुरक्षा को लेकर मीडिया भी करे जागरूक

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के सभी स्कूलों में सड़क सुरक्षा के प्रति जागरुकता अभियान चलाए जाएंगे। सभी घटनाएं दुखद हैं और पीड़ित परिवारों के प्रति सरकार की संवदेना है। उन्होंने मीडिया से भी अपील की सभी सड़क सुरक्षा नियमों का पालन करें।

यह भी पढ़ें :- ड्योढ़ी घाट पर 26 शवों का अंतिम संस्कार, गांव जाकर पीड़ितों को सीएम ने बंधाया ढांढस

यह भी पढ़ें :- मौतों का दोषी कौन? शराब पीकर ट्रैक्टर चला रहा राजू या फिर लचर व्यवस्था

उनके साथ विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना डीजीपी डीएस चौहान और प्रमख सचिव गृह संजय प्रसाद भी मौजूद रहे। इमरजेंसी में पहुंचकर मुख्यमंत्री से घायलों से घटनाक्रम की जानकारी ली। मुख्यमंत्री की फ्लीट के निकलने से पहले सरसैया घाट चौराहा का यातायात रोक दिया गया और दूसरी ओर रानी घाट चौराहा की ओर से आने वाला यातायात भी रोक दिया गया था। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री यहां से ड्योढ़ी घाट या कोरथा गांव जा सकते हैं। 

Edited By: Abhishek Agnihotri

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट