कानपुर, जेएनएन। बिधनू गंगापुर कारगिल कालोनी में आर्थिक तंगी से परेशान आटो चालक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सुबह पिता छत पर पहुंचे तो बालकनी के कुंडे से फंदे पर बेटे का शव लटका देखा। तभी उनकी चीख सुनकर अन्य लोग भी आ गए। 

करगिल कालोनी निवासी मजदूर सतेंद्र कुमार का 25 वर्षीय बेटा आशीष आटो चालक था। शुक्रवार सुबह पिता की नींद खुली तो देखा आशीष अपने बिस्तर पर नहीं था। छत पर जाकर देखा तो उसका शव छज्जे के कुंडे के सहारे रस्सी के फंदे पर लटक रहा था। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव नीचे उतारा। मां पूनम ने बताया कि पति स्वास्थ्य सही न होने से मजदूरी भी नहीं कर पाते। जिसकी वजह से बेटे आशीष पर पूरे परिवार के भरण पोषण के साथ छोटी बेटी शिवानी की शादी की जिम्मेदारी थी। जिसकी वजह से उसने कुछ माह पहले कर्ज लेकर एक पुराना आटो खरीदकर खुद चला रहा था। तीन माह पहले ऑटो खराब हो गया। जिसकी मरम्मत के लिए उसके पास रुपये नहीं थे। ऊपर से उसे ऑटो का कर्ज भी अदा करना था। कुछ दिन पहले एक ट्रांसपोर्टर ने ट्रक चलाने के लिए उसे बुलाया था, लेकिन उसके पास भारी वाहन चलाने का लाइसेंस नहीं था। वह बीते 15 दिनों से लाइसेंस के लिए भी प्रयास कर रहा था। इधर घर की माली हालत को बिगड़ता देख वह तनाव में था। जिसकी वजह से उसने ऐसा कदम उठा लिया। थाना प्रभारी अतुल कुमार सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Shaswat Gupta