जागरण संवाददाता, कानपुर : चेस्ट अस्पताल में भर्ती एक महिला ने गुरुवार भोर पहर पहली मंजिल से कूद कर जान दे दी। खुदकशी की सूचना मिलते ही अस्पताल में खलबली मच गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

मूल रूप से छत्तीसगढ़ निवासी क्रिस्टो सिंह की पत्‍‌नी कविता (30) 15 दिन से बुखार से परेशान थीं। उन्हें 31 मई को एलएलआर अस्पताल में दिखाया गया था। महिला एवं बाल विकास विभाग के उज्जवला परियोजना के तहत नमक फैक्ट्री चौराहे पर संचालित प्रगति सेवा संस्थान की प्रभारी कल्पना व प्रोजेक्ट मैनेजर गंगा शर्मा के मुताबिक उनके पास ढाई माह पहले कानपुर देहात के शिवा ग्रामोद्योग संस्थान से कविता आई थी। 12 जून से खाना-पीना बंद करने पर एलएलआर अस्पताल लेकर गए, जहां से डॉक्टरों ने मुरारी लाल चेस्ट अस्पताल भेज दिया। उसी दिन शाम को डॉ. आनंद कुमार की यूनिट में भर्ती हुई थी। वार्ड एक के बेड दो पर भर्ती कविता की देखरेख संस्था की मीना व उमा कर रही थीं। बुधवार को बलगम जांच में टीबी की पुष्टि हुई थी। मीना के मुताबिक सुबह चार बजे कविता शौचालय गई थी। कॉर्डियोलाजी की तरफ के वार्ड-2 के बाथरूम के पास खुली खिड़की से नीचे कूद गई। तीमारदारों को पीछे की तरफ कुछ हलचल का आभास हुआ। उन्होंने जूनियर रेजीडेंट (जेआर) डॉ. कामराज राव को जानकारी दी। उन्होंने जाकर देखा तो सांस थम चुकी थी। डॉ. राव ने सीएमएस डॉ. अवधेश कुमार व पुलिस को सूचना दी। साथ ही उसकी तीमारदार मीना को बुलाया। मीना की सूचना पर संस्था के पदाधिकारी भी वहां पहुंच गई। स्वरूप नगर थानाध्यक्ष, एलएलआर चौकी प्रभारी वहां पहुंचे और जांच-पड़ताल की। उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

देर रात भी उतर आई थी कविता

अस्पताल के सीएमएस डॉ. अवधेश कुमार ने बताया कि रात 11 बजे कविता सीढि़यों से नीचे उतर आई थी। उसकी तीमारदार महिलाएं उसे अपने साथ वापस वार्ड में ले गई। सुबह 4.20 बजे जब आइसीयू में भर्ती मरीज लक्ष्मी के तीमारदार को पीछे की तरफ कुछ हलचल सुनाई दी। उन्होंने डॉक्टर को जानकारी दी। पीछे जाकर देखा तो कविता का शव पड़ा था।

स्टॉफ नर्स एवं कर्मचारियों की लापरवाही

अस्पताल के पैरामेडिकल स्टाफ की लापरवाही सामने आ रही है। वार्ड-1 एवं वार्ड 2 में दो स्टॉफ नर्स ड्यूटी पर थीं। रात भर सभी अस्पताल में क्या कर रहे थे? उन्हें मरीज के बारे में कोई जानकारी तक नहीं हुई।

स्टॉफ नर्स, चौकी व जेआर से स्पष्टीकरण मांगा

सीएमएस डॉ. अवधेश कुमार का कहना है कि अस्पताल में भर्ती मरीज बिल्डिंग से कूद गया और किसी को पता ही नहीं चला। यह गंभीर लापरवाही है। सभी से स्पष्टीकरण तलब किया है। उस समय सब कहां थे? उसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप