कानपुर : जानकारी के अभाव में कोई भी छात्र पालीटेक्निक में प्रवेश लेने से वंचित नहीं रहेगा। प्रवेश प्रक्रिया की पूरी जानकारी उन्हें अपने ही कालेज(हाईस्कूल व इंटरमीडिएट) में मिलेगी। कालेजों में जाकर छात्रों को जानकारी देने के लिए पहली बार संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद ने सरकारी व अनुदानित पालीटेक्निक के वरिष्ठ शिक्षकों की टीमें बनाई हैं। इसके अलावा एडीएम, सीडीओ व डीआइओएस को भी इस संबंध में पत्र भेजा गया है।1इन टीमों ने 44 इंटर कालेजों में पढ़ने वाले छात्रों को पालीटेक्निक की प्रवेश प्रक्रिया के बारे में बताया है। इनमें ग्रामीण क्षेत्रों में संचालित इंटर कालेज भी शामिल थे। इन कालेजों में जाकर उन्होंने छात्रों को प्रदेश में संचालित सरकारी, सहायता प्राप्त व स्ववित्तपोषित साढ़े पांच सौ पॉलीटेक्निक में चलने वाली ब्रांच के बारे में बताया है। इसके अलावा कोर्स के बाद रोजगार की संभावनाओं री जानकारी भी दी जा रही है। पालीटेक्निक कानपुर में बनाई गईं आठ टीमें अपने अगले चरण में ग्रामीण क्षेत्रों के कालेजों में पढ़ने वाले छात्रों को प्रवेश संबंधित जानकारी देने के लिए जाएंगे। इसका उद्देश्य यह है कि कोई भी छात्र प्रवेश से वंचित न रह जाए। प्रवेश में करीब 150 राजकीय व अनुदानित पालीटेक्निक संचालित हैं। इसके अलावा 400 पालीटेक्निक स्ववित्तपोषित हैं। इस साल पालीटेक्निक की एक लाख 45 हजार सीटों पर छात्रों को प्रवेश मिलना है। ऑनलाइन आवेदन की आखिरी तारीख 28 फरवरी है। प्रवेश परीक्षा 22 अप्रैल को होगी। संयुक्त प्रवेश परीक्षा सचिव डा. एफआर खां ने बताया कि अधिक से अधिक छात्रों को मौका दिए जाने के लिए यह व्यवस्था की गई है। 

By Sanjay Pokhriyal