कानपुर, जेएनएन। अपने श्रम, कौशल और नवाचार से जागरण समूह को नई ऊंचाइयां प्रदान करने वाले चेयरमैन योगेन्द्र मोहन हमारे बीच नहीं रहे। शनिवार सुबह 10 बजे भैरोघाट पर आर्य समाज रीति से उनका अंतिम संस्कार किया गया। ज्येष्ठ पुत्र सुनील गुप्त ने मुखाग्नि दी। वह 85 वर्ष के थे। पिछले कुछ समय से अस्पताल में भर्ती थे। उन्होंने विजयदशमी के दिन अंतिम सांस ली। शांति पाठ व हवन रविवार सायं 3:30 बजे होगा। उनका निधन पत्रकारिता के साथ-साथ विज्ञापन और कला जगत के लिए भी अपूरणीय क्षति है।

स्नेहिल स्वभाव के धनी योगेन्द्र मोहन घर-परिवार और मित्रों-परिचितों के बीच सोहन बाबू के नाम से भी जाने-पहचाने जाते थे। वह जागरण समूह के कर्मचारियों से मैत्री भाव रखने और उन्हें संस्थान का कर्मयोगी समझने के लिए जाने जाते थे। हर किसी की मदद करने के लिए वह सदैव तत्पर रहते थे और इसी कारण सबके लिए सहज सुलभ और अत्यंत लोकप्रिय थे।

21 जुलाई, 1936 को जन्मे योगेन्द्र मोहन युवावस्था में ही दैनिक जागरण से जुड़ गए थे। उन्होंने विज्ञापन का मोर्चा संभाला और इस दौरान कई नए, अनूठे, समय से आगे के और समाचार पत्र के आर्थिक आधार को सशक्त करने वाले प्रयोग किए। उनके इन प्रयोगों ने दैनिक जागरण समेत समस्त समाचार पत्रों को एक नया आयाम दिया। वह समाचार पत्र के एक कुशल प्रशासक के साथ-साथ समाजसेवी के रूप में भी जाने जाते थे। लक्ष्मी देवी ललित कला अकादमी के साथ पूर्णचन्द्र गुप्ता स्मारक ट्रस्ट के अध्यक्ष के रूप में वह अंत समय तक सक्रिय रहे। उनके नेतृत्व में जहां लक्ष्मी देवी ललित कला अकादमी ने कला जगत को समृद्ध किया, वहीं पूर्णचन्द्र गुप्ता स्मारक ट्रस्ट ने शिक्षा जगत में नए प्रतिमान स्थापित किए।

यह भी पढ़ें :-जागरण समूह के चेयरमैन योगेन्द्र मोहन जी के निधन पर राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने जताया दु:ख, बताया अपूरणीय क्षति

अंतिम दर्शन कर अर्पित की श्रद्धांजलि

जागरण समूह के चेयरमैन योगेन्द्र मोहन गुप्ता के निधन पर तिलक नगर आवास और भैरोघाट पर माहौल काफी गमगीन रहा। लोगों ने इसे साहित्य, पत्रकारिता, उद्योग जगत के लिए बड़ी क्षति बताया। शहर के विशिष्ट लोगों ने कहा कि इस कमी को पूरा कर पाना असंभव है। उनके अंतिम दर्शन को पहुंचे पुलिस आयुक्त असीम अरुण ने कहा कि योगेन्द्र मोहन जी का निधन पीड़ादायक है। मंडलायुक्त डा. राजशेखर ने उनके निधन को समाज के लिए अपूर्णीय क्षति बताया। महापौर प्रमिला पांडेय, सांसद सत्यदेव पचौरी, सांसद देवेंद्र सिंह भोले, एमएलसी अरुण पाठक व सलिल विश्नोई, आइजी मोहित अग्रवाल, डीएम विशाख जी अय्यर, डीसीपी पश्चिम बीबीजीटीएस मूर्ति ने आवास पर पहुंच कर अंतिम दर्शन किए और श्रद्धांजलि अर्पित की। औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना, विधायक महेश त्रिवेदी, एडीएम सिटी अतुल कुमार, मर्चेंट चेंबर आफ उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष अतुल कनोडिया, पूर्व अध्यक्ष मुकुल टंडन, चार्टर्ड अकाउंटेंट सुधींद्र जैन, गोपाल तुलस्यान, विकास चतुर्वेदी, विवेक चतुर्वेदी, डा. एसके भट्टर, डा. बीके मिश्रा, उद्यमी नरेंद्र शर्मा, उद्यमी सुदीप गोयनका, डा. राकेश शुक्ला, डा. राजेंद्र राव, बसपा नेता देवी तिवारी, कांग्रेस नेता पवन गुप्ता आदि लोगों ने भी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। कानपुर दक्षिण उद्योग व्यापार मंडल ने किदवई नगर स्थित गेस्ट हाउस में श्रद्धांजलि सभा की। व्यापार मंडल अध्यक्ष कमल उत्तम ने श्रद्धांजलि दी।

संचालन महामंत्री अभिषेक पांडेय ने किया। इस मौके पर रीता शास्त्री, ऋषभ शुक्ला,ने श्रद्धासुमन अर्पित किए। कानपुर उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष टीकम चन्द सेठिया,उत्तर प्रदेश युवा व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष विकास जैन, प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष कपिल सब्बरवाल, उत्तर प्रदेश सिंधी समाज के महेश मेघानी, बालचंद लालवानी ने शोक संवेदना व्यक्ति की।  

यह भी पढ़ें :- जागरण समूह के चेयरमैन योगेन्द्र मोहन जी का निधन, चारों तरफ शोक की लहर

 

Edited By: Abhishek Agnihotri