फर्रुखाबाद, जेएनएन। रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने टिकट की कालाबाजारी करने पर ब्लैक में टिकट बेचने के आरोपित युवक को गिरफ्तार कर लिया। बुधवार को आरोपित को न्यायालय के आदेश पर जेल भेज दिया गया।

आरपीएफ कोतवाली प्रभारी वीरेंद्र कुमार ने बताया कि रेलवे टिकट की कालाबाजारी करने के मामले में फरार चल रहे जनपद बहराइच के कैसरगंज थाना क्षेत्र के डिहवा शेरबहादुर ङ्क्षसह हुजुरपुर रोड निवासी फिरोज अहमद अंसारी को गिरफ्तार कर लिया गया है। बुधवार को आरोपित को न्यायालय में पेश किया गया। वहां से उसे जेल भेज दिया गया। उन्होंने बताया कि आरोपित के पास से 3,38185 रुपये की 18 पीआरएस टिकट और 239 रेल आरक्षित ई-टिकट बरामद की गई हैं। एक लैपटाप भी मिला है, जिससे एनजीएटी साफ्टवेयर के माध्यम से आरक्षित टिकट जारी कर रहा था। कोतवाली प्रभारी ने बताया कि फरार चल रहे मुख्य आरोपित राजू उर्फ मोहम्मद मजहर के हाजिर न होने पर कुर्की की कार्रवाई की जाएगी। गौरतलब है कि टिकट कालाबाजारी करने के मामले में आरपीएफ चार रेलवे लिपिक और दो टिकट दलालों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।

साफ्टवेयर से ऐसे करते हैं काम : प्रतिबंधित साफ्टवेयर एनजीएटी में टिकट दलाल पहले से आईआरसीटीसी की सैकड़ों फेक पर्सनल यूजर आईडी लोड कर उसमें यात्रियों का पूर्ण विवरण नाम पता गाड़ी नंबर कहां से कहां तक आदि भर देते हैं। जैसे ही रेलवे अपने तत्काल टिकटों के लिए समय खोलते हैं, वैसे ही दलालों के टिकट बन कर तैयार हो जाते हैं। इससे रेलवे यात्रियों को ब्लैक में टिकट खरीदने पड़ते हैं। 

Edited By: Shaswat Gupta