कानपुर, जागरण संवाददाता। ग्रीनपार्क में खेले जा रहे भारत न्यूजीलैंड टेस्ट के निर्णायक दिन का पहला सत्र कीवी टीम के नाम रहा। पहले सत्र में भारतीय टीम स्पिनर तिकड़ी और तेज गेंदबाज मिलकर 31 ओवर में 75 रन देकर कोई विकेट नहीं हासिल कर सके।

चौथे दिन 284 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी कीवी टीम को ओपनर विल यंग के रूप में पहला झटका पांच के योग पर लग चुका था। अंतिम दिन का पहला सत्र मैच के परिणाम को लेकर सबसे अहम माना जा रहा था। जिसमें भारतीय गेंदबाज पूरी तरह से विफल रहे। अंतिम दिन भोजनकाल तक न्यूजीलैंड की टीम के ओपनर टाम लाथम (35) और नाइट वाचमैन समरविले (36) पर नाबाद रहे। स्पिनर तिकड़ी अश्विन, अक्षर व जडेजा भी स्पिनर के मुफीद मानी जा रही पिच पर कोई कमाल नहीं दिखा सके। भोजनकाल तक न्यूजीलैंड की टीम एक विकेट के नुकसान पर 79 रन बना चुकी थी। उसे जीत के लिए अभी भी 205 रनों की दरकार है।

इससे पहले चौथे दिन का मैच समाप्त होने के बाद श्रेयस अय्यर ने कहा था कि कीवी टीम पर हमारी पकड़ मजबूत है। हमारा लक्ष्य बेहतर स्कोर तक पहुंचने का था जिसे हासिल करने में टीम कामयाब रही। मैच के अंतिम दिन भारतीय टीम की जीत का दारोमदार स्पिनरों की तिकड़ी पर रहेगा। हलांकि टेस्ट के निर्णायक दिन का पहला सत्र कीवी टीम के नाम रहा। कीवी टीम के एक भी विकेट नहीं गिरें हैं जब कि टीम अपने लक्ष्य की अोर बढ़ती जा रही है। टीम को अगले सत्र में अपने स्पिनरों पर ही भरोसा है।  

Edited By: Abhishek Agnihotri