कानपुर, जेएनएन। त्योहार के ठीक पहले वाणिज्य कर विभाग के प्रवर्तन दस्ते को प्रशिक्षण दिया जाएगा। पांच दिन का यह प्रशिक्षण आनलाइन होना है। 25 अक्टूबर को शुरू होने वाला यह प्रशिक्षण 29 अक्टूबर तक चलेगा। इसमें पूरे प्रदेश से 116 अधिकारियों को शामिल किया गया है। इसमें विशेष अनुसंधान शाखा और सचल दल के दस्ते दोनों को लिया जा रहा है। प्रशिक्षण में अधिकारियों को बारीकियों से रूबरू कराया जाएगा।

विशेष अनुसंधान शाखा और सचल दल की प्रवर्तन की कार्यवाही को लेकर वाणिज्य कर विभाग अपना प्रशिक्षण अभियान शुरू करने जा रहा है। विशेष अनुसंधान शाखा के संयुक्त आयुक्त, उपायुक्त व सहायक आयुक्तों को शामिल होने के लिए कहा गया है। इन सभी का कार्य बिना टैक्स चुकाए जा रहे माल को रास्ते में पकड़ना या कारोबारी स्थल पर छापा मारकर पकड़ना होता है। त्योहार के समय माल आने की मात्रा बहुत अधिक हो जाती है। इसलिए इस समय कर अपवंचना की आशंकाएं इस समय सबसे ज्यादा होती हैं। वैसे यह प्रशिक्षण शिविर भी ठीक ऐसे समय पर हो रहा है जबकि त्योहार का समय चल रहा है। करवा चौथ के अगले दिन यानी 25 अक्टूबर से यह प्रशिक्षण शिविर शुरू हो जाएगा। 29 अक्टूबर तक चलने वाला यह प्रशिक्षण शिविर जब खत्म होगा तो धनतेरस के बीच में मात्र तीन दिन ही शेष रह जाएंगे। अधिकारियों को हालांकि इस प्रशिक्षण शिविर में आनलाइन ही शामिल होना है लेकिन वाणिज्य कर विभाग के अधिकारियों का मानना है कि इस मौके पर आयोजित किए जा रहे इस प्रशिक्षण शिविर से कर अपवंचना करने वालों के खिलाफ की जाने वाली कार्यवाही प्रभावित हो सकती हैं। इस प्रशिक्षण शिविर में कानपुर से 10 अधिकारियों को चुना गया है। इसमें तीन संयुक्त आयुक्त कमलेश कुमार, सुशील कुमार सिंह, दिनेश कुमार वर्मा को शामिल किया गया है। वहीं उपायुक्त में विधु शेखर पांडेय, राजेश प्रताप सिंह, चंद्रशेखर, प्रमोद कुमार शामिल हैं। साहयक आयुक्तों में रामाशीष पांडेय, अजमतउल्लाह, ममता उपाध्याय को शामिल किया गया है।

Edited By: Shaswat Gupta