जागरण संवाददाता, कानपुर: आइआइटी कानपुर में पढऩे वाले छात्र-छात्राएं भारत सरकार की  इंस्पायर स्कॉलरशिप के लिए आवेदन कर सकते हैं। सीनेट स्कॉलरशिप एंड प्राइज कमेटी ने 15 सितंबर तक छात्रों को आवेदन का मौका दिया है।

भारत सरकार के विज्ञान और तकनीकी विभाग की ओर से दी जाने वाली यह स्कॉलरशिप प्रति छात्र तकरीबन 80 हजार रुपये होगी। खास बात ये है कि पहले वर्ष से लेकर अंतिम वर्ष तक के छात्र इस स्कॉलरशिप के लिए आवेदन कर सकेंगे। हालांकि वही छात्र-छात्राएं ात्र होंगे जिनका सीपीआई स्कोर सात से अधिक होता है। इससे नीचे स्कोर होने व किसी एक विषय में फेल होने पर छात्र-छात्राओं की पात्रता निरस्त मानी जाएगी।

अगर किसी छात्र या छात्रा के खिलाफ सीनेट ने कार्रवाई की है तो भी वह इस अवसर का लाभ नहीं उठा पाएंगे। आइआइटी निदेशक प्रो. अभय करंदीकर का कहना है कि स्कॉलरशिप छात्र-छात्राओं की पढ़ाई के लिए मददगार साबित होती है। इस स्कॉलरशिप में अधिक से अधिक छात्र-छात्राओं को आवेदन करना चाहिए। संस्थान पूरी मदद करेगा।

वेबसाइट पर मिलेगी जानकारी

इस स्कॉलरशिप से जुड़े सभी निर्देशों की जानकारी छात्र-छात्राओं को एसएसपीसी आइआइटी कानपुर की वेबसाइट पर मिल जाएगी। उन्हें होमपेज पर ही मौजूद फॉर्म का विकल्प दिखेगा, इसमें से हर बिंदु की जानकारी वह ले सकेंगे।

श्रम कानून में संसोधन पर आइआइटी प्रोफेसरों का मंथन

मौजूदा समय में लागू श्रम कानून व उनके क्रियान्वयन को लेकर आने वाली अड़चनों को लेकर आइआइटी कानपुर के प्रोफेसरों ने मंथन किया। इंडस्ट्रीयल मैनेजमेंट अकादमी नई दिल्ली के साथ हुई तीन दिवसीय कार्यशाला में श्रम कानून में हुए संशोधनों पर भी चर्चा की गई। कार्यशाला का उद्घाटन संस्थान के उपनिदेशक प्रोफेसर मणींद्र अग्रवाल ने किया। कार्यक्रम में मौजूद कुलसचिव कृष्ण कुमार तिवारी, संयुक्त कुलसचिव सीपी सिंह आदि ने बताया कि श्रम कानूनों को लागू करने में हमें कुछ सावधानियों का ध्यान रखना होगा।

Posted By: Abhishek