जागरण संवाददाता, कानपुर : डीएम आलोक तिवारी रात 10.31 बजे कुरसौली गांव पहुंचे। उन्होंने गांव के बुखार पीड़ित चंद्रशेखर तिवारी से मुलाकात की। बोले अब कैसी तबियत है। चंद्रशेखर ने कहा कि एक हफ्ते में बहू और पत्नी की बुखार से मौत हो चुकी है। डीएम ने कहा- आपको हैलट में भर्ती करा देता हूं वहां डाक्टर आपकी निगरानी करेंगे। चंद्रशेखर तैयार हुए तो डीएम ने सीएमओ से उन्हें भर्ती कराने के लिए कहा। उन्होंने कहा डीपीआरओ से कहा वाट्सएप ग्रुप बनाएं। उसमें लेखपाल और सचिव बुखार पीड़ित की सूचना देंगे। अगर सूचना के बाद भी बिना उपचार किसी पीड़ित की मौत हुई तो चिकित्सक पर और सूचना न देने पर लेखपाल और सचिव के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराएंगे। डीएम ने गांव में ही रात्रि विश्राम किया।

डीएम सबसे पहले प्राथमिक स्कूल गए। एसडीएम दीपक पाल ने उन्हें बताया कि चंद्रशेखर तिवारी ही गंभीर रूप से बीमार हैं तो डीएम तुरंत उनके घर गए। चंद्रशेखर ने बताया कि बहू की बहन आई थी वह भी बीमार है। डीएम ने कहा कि उनका भी उपचार कराएंगे। जब वहां से निकले तो बुखार पीड़ित दिव्या ने उन्हें रोक लिया और कहा कि साहब नालियां खुली हुई हैं इसलिए बीमारी फैल रही है। अधिकारी आते हैं और निरीक्षण करके चले जाते हैं। डीएम ने दिव्या से कहा कि आपको भर्ती करवा दें तो उसने कहा कि अभी वह अस्पताल से लौटी है। डीएम ने सीएमओ डा. नैपाल सिंह से कहा कि 15- 15 गांवों का क्लस्टर बनाएं और वहां के लिए चिकित्सक तैनात करें। ताकि जैसे ही सूचना मिले तत्काल वहां चिकित्सक जाकर उपचार करें। डीपीआरओ कमल किशोर से कहा कि वाट्सएप ग्रुप बनाकर लेखपाल और कानूनगो को उसमें जोड़ें। लेखपाल और सचिव अपने क्षेत्र के गांव में कौन बुखार पीड़ित है उसकी पूरी डिटेल ग्रुप में देंगे और फिर चिकित्सक वहां जाकर उपचार करेंगे। हर घंटे की रिपोर्ट उन्हें देनी होगी। अगर किसी पीड़ित की मौत हो और उसके बीमार होने की सूचना ग्रुप में नहीं होगी तो लेखपाल और सचिव पर मुकदमा कराएंगे। बीडीओ अनिरुद्ध सिंह डीएम के पहुंचने के बाद भी गांव नहीं पहुंचे। इस अवसर पर एडीएम सिटी अतुल कुमार, एसडीएम दीपक पाल उपस्थित रहे।

..

तीन दर्जन ग्रामीणों पर मुकदमा होगा

नालियों में शौचालयों का पानी बहाने वाले तीन दर्जन ग्रामीणों पर मुकदमा कराने का निर्णय डीपीआरओ ने लिया है। उन्होंने बताया कि उन्हें पूर्व में नोटिस दी गई थी। बावजूद इसके वे शौचालय का पानी बहा रहे हैं।

--------

गांव आने का उद्देश्य है लोगों का मनोबल बढ़ाना और जागरूक करना कि वे मच्छरदानी लगाएं। जहां कहीं पानी जमा हो उसे साफ करें और मास्क लगाएं ताकि बीमारी पर काबू पा सकें।- आलोक तिवारी , डीएम

Edited By: Jagran