जागरण संवाददाता, कानपुर : कटरी के शंकरपुर सराय गांव में शूटिग रेंज समेत सरकारी जमीनों पर कब्जा कर बेचने के आरोपित हिस्ट्रीशीटर रामदास के साथी राजू पाल को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। राजू पाल ने भी एक रीयल एस्टेट कंपनी बनाकर जमीनें बेची थीं। एसएसपी ने एक दिन पूर्व ही उसके खिलाफ 20 हजार का इनाम घोषित किया था। राजू के बेटे समेत फरार अन्य आरोपितों पर भी इनाम घोषित होने की उम्मीद है। उनकी तलाश में दो टीमें दबिश दे रही हैं।

हिस्ट्रीशीटर रामदास व उसके बेटे राजेंद्र ने रीयल एस्टेट कंपनियों के साथ मिलकर कटरी की सैकड़ों बीघा जमीन पर कब्जा कर प्लाटिग कराई थी। शूटिग रेंज की भूमि पर कब्जे का राजफाश होने के बाद पुलिस हरकत में आई और रामदास, उसके बेटे राजेंद्र, रीयल एस्टेट कंपनी के प्रोपराइटर राजू पाल व सुरेश पाल पर मुकदमा दर्ज किया था। बाद में एक और रीयल एस्टेट कंपनी के प्रोपराइटर सुजीत सिंह चौहान व एजेंट मनोज का नाम शामिल किया गया। प्लॉट खरीदने वाले तीन पीड़ितों ने भी कोहना थाने में राजू व अन्य आरोपितों के खिलाफ मुकदमे लिखाए थे। इसके बाद पुलिस ने 20 हजार के इनामी रामदास को जेल भेजा। सीओ दिनेश कुमार शुक्ला ने बताया कि ओमपुरवा चकेरी निवासी राजू पाल ने भी अपनी रीयल एस्टेट कंपनी बनाकर कटरी की भूमि पर प्लाटिग की और कई लोगों को एग्रीमेंट किया था। आरोपित को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से जेल भेजा गया है। उसके खिलाफ पुख्ता सुबूत हैं। एग्रीमेंट व अन्य दस्तावेजों पर राजू पाल के हस्ताक्षर हैं। उसका बेटा सौरभ भी कंपनी में डायरेक्टर है। उसके खिलाफ भी गैरजमानती वारंट जारी कराया गया है। जल्द बाकी आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021