जागरण संवाददाता, कानपुर : कल्याणपुर और सरसौल सीएचसी ने स्वास्थ्य सुविधाओं और चिकित्सीय सेवाओं के लिए प्रदेश में बाजी मारी है। उन्हें नेशनल हेल्थ मिशन (एनएचएम) के कायाकल्प अवार्ड के लिए चुना गया है। उत्तर प्रदेश के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों (सीएचसी) में दोनों ने सांत्वना पुरस्कार हासिल किया है।

केंद्र सरकार ने दो साल पहले देश भर में कायाकल्प पुरस्कार लांच किया था। इसमें डॉक्टर और विशेषज्ञों की टीम कई स्तर पर अस्पताल की व्यवस्थाओं की जांच करती है। साफ सफाई, स्वच्छता, मेडिकल वेस्ट प्रबंधन, हाईजीन, संक्रमण रहित, लांड्री, किचन आदि सहित अन्य सुविधाओं व प्रबंधन के मानक निर्धारित होते हैं। अवार्ड के लिए शहर में सरसौल, बिठूर समेत अन्य सीएचसी ने आवेदन किया था। कई चरणों में प्रतियोगिता हुई। लखनऊ और दिल्ली से आए स्वास्थ्य और मैनेजमेंट के अधिकारियों ने हर पहलुओं पर निरीक्षण किया। मरीज, तीमारदारों और स्टाफ से बातचीत के आधार पर फैसला सुनाया

सरसौल नौवें नंबर पर

कायाकल्प अवार्ड में जौनपुर की डोभी सीएचसी ने 91 अंकों के साथ बाजी मारी है। कानपुर की सरसौ सीएचसी 74.2 अंकों के साथ नौवें और कल्यापुर सीएचसी 71 अंकों के साथ 19 वें स्थान पर है।

एनएचएम की क्वालिटी एसोरेंस सेल के डिस्ट्रिक्ट कंसल्टेंट डॉ. आरिफ बेग ने बताया कि कल्याणपुर और सरसौल के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कायाकल्प अवार्ड के लिए चुना गया है। एनएचएम की ओर से दोनों अस्पतालों को कैश प्राइज दिया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस