संवाद सहयोगी, कल्याणपुर : पनकी के श्रीपंचमुखी हनुमान मंदिर में मंगलवार भोर वीआइपी दर्शन कराने को लेकर दोनों महंतों के शिष्यों के बीच मारपीट हो गई थी। इस मामले में दोनों महंतों की ओर से तहरीर दी गई थी, लेकिन तब पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया था। बुधवार को महंत जितेंद्र दास पुलिस आयुक्त कार्यालय पर पहुंचे और विरोध स्परूप हनुमान चालिसा पढ़ने लगे। उन्हें आश्वासन देकर वापस किया गया और देर शाम महंत जितेन्द्र दास की तहरीर पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी।

बुढ़वा मंगल की भोर अपने लोगों को सुलभ दर्शन कराने को लेकर मंदिर परिसर में महंत जितेंद्र दास व महंत कृष्णदास के शिष्यों के बीच मारपीट हो गई थी। दोनों महंतों के बीच भी झड़प हुई। पूरी घटना का वीडियो वायरल हुआ था। दोनों महंतों ने पुलिस को अपनी-अपनी तहरीर दी थीं, लेकिन पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया था। मुकदमा दर्ज न होने पर बुधवार को महंत जितेंद्रदास विरोध स्वरूप शिष्यों के साथ पुलिस आयुक्त कार्यालय पहुंचे और हनुमान चालिसा का पाठ शुरू कर दिया। यह देखकर पुलिस अधिकारियों ने उन्हें समझाया और पंद्रह मिनट बाद ही वह लौट गए। देर शाम पुलिस ने जितेंद्र दास की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया। साथ ही घटना में घायल बताए जा रहे महंत जितेन्द्र दास के चार शिष्यों हर्षित शुक्ला, विनीत तिवारी, महेंद्र तिवारी व सौरभ शुक्ला का मेडिकल कराया। महंत जितेंद्र दास ने अपनी तहरीर में सौरभ शुक्ला, शिवम सक्सेना, सीताराम, रमाकांत मिश्र, मोनू सक्सेना, दिव्यांशु तिवारी, राज राठौर, कुलदीप तिवारी, मलय अवस्थी व रामजी पर उनके शिष्यों के साथ मारपीट व उन्हें जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया है। पनकी इंस्पेक्टर दधिबल तिवारी ने बताया कि जितेंद्र की तहरीर पर नामजद रिपोर्ट दर्ज कर घायल शिष्यों का मेडिकल कराया गया है। कृष्ण दास द्वारा दी गई तहरीर पर जांच की जा रही है।

Edited By: Jagran