कानपुर, जेएनएन। पहाड़ी थाना के कादरगंज में एक घर पर अचानक आग लग गई। घर के रखी गृहस्थी समेत अंदर सो रहा दो माह का मासूम जिंदा जल गया। आग इतनी विकराल थी कि मासूम के बचाने  के प्रयास में चाचा बुरी तरह झुलस गया। एसडीएम ने दैवीय आपदा के तहत आर्थिक सहायता दिलाने का आश्वासन दिया है।कादरगंज निवासी शिवशंकर सिंह यादव के तीन बेटे हैं। बड़ा बेटा शिवपूजन व पवन के साथ जयपुर राजस्थान में रहकर मजदूरी करते हैं। जबकि तीसरा बेटा शारदा प्रसाद गांव में रहता है। शिवपूजन पत्नी गीता देवी को दो माह पहले के मासूम बेटे के साथ गांव छोड़ गया था। 

शनिवार की सुबह करीब दस बजे परिवार के सभी सदस्य खेती बारी के काम से इधर उधर थे। शिवशंकर की पत्नी गिरजा देवी अपनी बेटी उर्मिला के एक साल के बच्चे को लेकर घर बाहर धूप ले रही थी। जबकि गीता देवी अपने दो माह के बेटे नितिन को कमरे सुलाकर उपले बनाने पशु बाड़ा में चली गई। अचानक कच्चे घर में आग लग गई। लोगों ने धुआं उठता देखा तो शोर मचाया। थोड़ी ही देर में आग की विकराल लपटे उठने लगी। ग्रामीण दौड़े आग बुझानेे में लग गए। किसी को घर के अंदर सो रहे मासूम की याद नहीं थी। जब दौड़कर मां गीता पहुंची तो बताया का नितिन घर के अंदर सो रहा है। यह सुन उसका देवर शारदा आग की लपटों के बीच अंदर जाने का प्रयास किया लेकिन असफल रहा। सूचना पर पहुंची फायर ब्रिगेट ने आग बुझाई, लेकिन पूरी गृहस्थी राख हो गई थी और मासूम नितिन भी जिंदा जल गया था। शारदा को सीएचसी पहाड़ी में भर्ती कराया गया। 

बच्चा छोटा होने पर छोड़ गया था गांव 

शिवपूजन अपने पूरे परिवार के साथ जयपुर में ही रहता था। दो माह पहले बच्चा हुआ था। सर्दी में परिवार में देखभाल हो जाएगी इसलिए वह पत्नी गीता व नितिन को गांव छोड़ गया था। पिता शिवशंकर ने बताया कि शिवपूजन के तीन बेटे व चार बेटी हैं। बाकी बच्चे उसके साथ ही जयपुर में है। 

दी जाएगी आर्थिक मदद 

पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष शिवशंकर सिंह यादव घटना स्थल गए थे। साथ ही एसडीएम ने  राजस्व टीम भेजा था। एसडीएम राम प्रकाश ने बताया कि दैवीय आपदा के तहत आर्थिक मदद दी जाएगी। थाना प्रभारी अवधेश कुमार मिश्रा ने बताया कि आग लगने का कारण पता नहीं चला है। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021