जागरण संवाददाता, कानपुर :

डेंगू नियंत्रण के लिए स्वास्थ्य महकमा अब नगर निगम के पार्षदों की मदद लेगा। पार्षदों को वार्डवार नोडल अफसर बनाया गया है। उन्हें दवा का छिड़काव कराने की जिम्मेदारी सौंपी है। पार्षद छिड़काव मलेरिया विभाग के कर्मचारियों से कराएंगे।

महापौर प्रमिला पांडेय की अध्यक्षता में नगर निगम मुख्यालय में सोमवार शाम को बैठक हुई। पार्षदों से डेंगू नियंत्रण में सहयोग करने की अपील की गई। अफसरों ने कहा कि घरों के अंदर मच्छरों के लार्वा मिल रहे हैं। घर के अंदर टीम नहीं जा पाती है। इसलिए पार्षद सहयोग करें। मच्छरों का लार्वा मारने वाली दवा भी पार्षदों को दी गई। बीस लीटर पानी में एक चम्मच दवा मिलाकर क्षेत्र में छिड़काव कराना है। मलेरिया विभाग के अफसर जोनवार पार्षदों का सहयोग करेंगे। पार्षद की देखरेख में दवा का छिड़काव करेंगे। इसमें किसी तरह की समस्या होने पर नोडल अफसर एवं सीएमओ से शिकायत करेंगे। बैठक में डेंगू और मलेरिया के संयुक्त निदेशक डॉ. विकास सिंघल और नगर आयुक्त संतोष कुमार शर्मा ने कहा कि डेंगू पर नियंत्रण पाने के लिए जनता को जागरूक करना होगा। इसलिए सभी एकजुट होकर कार्य करें। बैठक में पार्षद सुहैल अहमद, विजय यादव, महेंद्र पांडेय, विकास जायसवाल, अर्पित यादव, अभिषेक गुप्ता, मोहम्मद अमीर, प्रदीप पांडेय, सुधा जितेन्द्र सचान, अंजू कौशल मिश्र, रमेश हठी, अमित मेहरोत्रा, अरविन्द यादव, नमिता मिश्रा समेत 40 पार्षद मौजूद रहे। इस दौरान सीएमओ डॉ. अशोक शुक्ला, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अमित सिंह, डॉ. अशोक कुमार, अपर नगर आयुक्त अरविंद राय एवं रोली गुप्ता मौजूद रहीं।

इनसेट

वार्डो में नहीं दिखते मलेरिया कर्मचारी

बैठक में स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने साफ-सफाई का मसला उठाया। इस पर पार्षद भड़क गए। सीएमओ से पूछा, आप की मलेरिया इकाई की टीम कहां दवा छिड़काव करती है। कहीं कोई दिखता नहीं है। इस महापौर ने भी सीएमओ से सवाल-जवाब किए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप