जागरण संवाददाता, कानपुर : गंगा का जलस्तर तेजी से कम होने के साथ ही पानी से घिरे गांवों को राहत मिलने लगी है। शुक्लागंज में गंगा चेतावनी बिंदु से नीचे आ गई है। साथ ही गंगा बैराज में भी तेजी से जलस्तर गिरने लगा है।

शुक्लागंज में सोमवार को गंगा चेतावनी बिंदु 113 मीटर से घटकर 112.95 मीटर पहुंच गई है। बैराज में अपस्ट्रीम में रविवार को गंगा का जलस्तर 114.68 मीटर था जो सोमवार को 114.50 मीटर हो गया।

दस दिन से बाढ़ की मार झेल रहे बिठूर के हिन्दुपुर, शिवदीनपुरवा, पपरिया, डल्लापुरवा, भारतपुरवा, प्रतापपुर हरी आदि गांवों में अब पानी घटने से लोग वापस घरो में आने लगे है।

ख्योरा कटरी के सातो मजरों बनियापुरवा, दुर्गापुरवा, लक्षमनपुरवा, मक्कापुरवा, भोपालपुरवा, भगवानदीनपुरवा, गिल्लीपुरवा में भी तेजी से जलस्तर घट रहा है। बनियापुरवा और लक्ष्मणपुरवा गांवों में घरों से पानी कम होने लगा है। पानी कम होने से राहत मिली लेकिन गंदगी मुसीबत बन गई है। जिला प्रशासन ने सफाई व्यवस्था की तैयारी शुरू की है।

केस्को ने चेक की एलटी लाइन

केस्को ने बाढ़ ग्रसित गांवों में सभी एल टी लाइनों को चेक किया। कल तक कुछ गांवों में बिजली की आपूर्ति शुरू कर दी जायेगी।

बाढ़ पीड़ितों का किया स्वास्थ्य परीक्षण, मदद को आई संस्थाएं

पीड़ितो की मदद के लिए आरोग्य धाम ने मेडिकल कैम्प लगाकर करीब एक हजार लोगोंका स्वास्थ्य परीक्षण कर दवाइयां वितरित की। सोमवार को विधायक प्रतिभा शुक्ला, पूर्व सासद अनिल शुक्ल वारसी,अशोक निषाद, भैय्यन दुबे, अजय कोरी, अलोक मिश्रा, अजीम खान, रजी फाजिल आदि ने बाढ़ पीड़ितो को राहत सामग्री वितरित की।

Posted By: Jagran