कानपुर, जेएनएन। सट्टा किंग सोनू सरदार ने मंगलवार को पुलिस को चकमा देते हुए गैंगस्टर कोर्ट में सरेंडर कर दिया। सोनू के अधिवक्ता की ओर से उसकी बीमारी का हवाला देते हुए अस्पताल भेजने की मांग की गई, जिस पर न्यायालय ने जेल अधीक्षक को नियमानुसार कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। अधिवक्ता की ओर से सोनू की जमानत अर्जी भी दी गई थी। इस पर न्यायालय बुधवार को सुनवाई करेगा।  

विशेष न्यायाधीश गैंगस्टर के न्यायालय में सट्टा किंग सोनू सरदार की ओर से सरेंडर की अर्जी दी गई थी। न्यायालय ने इस पर पुलिस से रिपोर्ट मांगी थी। पुलिस रिपोर्ट आने के बाद मंगलवार को सोनू सरदार ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया। उसे व्हील चेयर पर लगाया गया था। लॉयर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अधिवक्ता शैलेंद्र शुक्ला ने उसकी जमानत अर्जी कोर्ट में दी साथ ही उसकी बीमारी का हवाला देते हुए जिला अस्पताल भेजने की मांग की। अधिवक्ता के मुताबिक सोनू को दिल की बीमारी होने के साथ ही चलने फिरने में समस्या है। न्यायालय को बताया गया कि उसका इलाज चल रहा है। इलाज संबंधी सभी दस्तावेज भी कोर्ट में प्रस्तुत किए गए हैं। वहीं जमानत प्रार्थना पत्र पर बुधवार की तारीख दे दी गई है। बता दें सट्टे के मामले में छह आरोपित गैंगस्टर कोर्ट में सरेंडर कर पहले ही जेल भेजे जा चुके हैं। 

सट्टा संचालक व साथियों पर गैंगस्टर की कार्रवाई 

मसवानपुर के सहकार नगर में रहने वाले सट्टा संचालक रामा यादव व उसके साथी कप्तान यादव, कलीम वारसी, श्याम नारायण, विकास और संजय मसी के खिलाफ कल्याणपुर पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट का मुकदमा दर्ज किया है। बीती 23 अक्टूबर को रामा यादव के दफ्तर में एसपी वेस्ट की टीम ने छापा मारकर करीब साढ़े 11 लाख रुपये नकद बरामद किए थे। कल्याणपुर थानाप्रभारी अजय सेठ ने बताया कि गैंगस्टर की कार्रवाई कर आरोपितों की तलाश में दबिश दी जा रही है। जल्द ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021