कानपुर, [आशीष पांडेय]। चकेरी के श्याम नगर में पुलिस पर फायरिंग करने वाले कारोबारी राजकुमार दुबे के बारे में एक और अहम जानकारी सामने आई है। कारोबारी ने अपने बड़े बेटे सिद्धार्थ से बहू भावना की हत्या करने को कहा था, लेकिन सिद्धार्थ ने पिता की बात नहीं मानी। इस बात को लेकर भी पिता-पुत्र के बीच मनमुटाव की स्थिति बनी हुई थी। सास और ससुर भावना को पसंद नहीं करते थे।

सी-ब्लाक श्याम नगर में पारिवारिक विवाद की सूचना पर पहुंची पुलिस पर शेयर कारोबारी राजकुमार दुबे ने डबल बैरल बंदूक से ताबड़तोड़ फायरिंग की थी। इसमें दारोगा हिमांशु त्यागी, सिपाही रामरतन समेत तीन लोग छर्रे लगने से घायल हुए थे। 40 राउंड फायरिंग के बाद डीसीपी पूर्वी प्रमोद कुमार ने कारोबारी का आत्मसमर्पण कराया था। बीते सोमवार को पुलिस ने घटना में उनकी पत्नी किरन के साथ देने पर दंपती को जेल भेजा था। 

'पांच-सात लाख रुपये खर्च होंगे, दूसरी शादी भी करा दूंगा'

बड़े बेटे सिद्धार्थ ने पुलिस को बताया कि शादी के दिन से ही विवाद शुरू हो गया था। जनवासे बरात पहुंचने पर उनके घरवालों ने एक बुलेट बाइक और दो लाख रुपयों की मांग कर दी थी। भावना के परिवार ने असमर्थतता जताई तो उन्हें बरात वापस ले जाने की धमकी दी गई। काफी समझाने और ससुराल वालों के हाथ-पैर जोड़ने पर शादी के लिए राजी हुए। बाद में आए दिन विवाद के बाद पिता उनसे कहते थे कि तुम बहू को मार दो। मैं तुम्हें पांच-सात लाख रुपये खर्च करके जमानत पर छुड़ा लाऊंगा और दूसरी शादी भी करा दूंगा।

बहू पर खिड़की से साधा था निशाना

सिद्धार्थ ने बताया कि वारदात के दिन सुबह जब रुपये के लेनदेन की बात को लेकर कहासुनी हुई तो वह पत्नी भावना के साथ कमरे में मौजूद थे। पिता आगे वाले कमरे में तेज आवाज में बात करते हुए अपना गुस्सा निकाल रहे थे। कुछ देर बाद ही पिता लाइसेंसी बंदूक लेकर छत पर लगे जंगले के पास गए। वहां लगी प्लास्टिक की शीट को तोड़कर नाल अंदर डाली थी और गोली मारने के लिए निशाना लगा रहे थे, लेकिन भावना के आगे वह खुद खड़े थे। इस पर मां ने पिता को रोका था। बाद में पिता गाली-गलौज करते हुए बंदूक लेकर नीचे आ गए थे।

तीसरे दिन से शुरू हुई घर में कलह

भावना का मायका घाटमपुर पतारा में है। एसएससी की तैयारी के दौरान सिद्धार्थ से उनकी मुलाकात हुई थी। बाद में दोनों में प्रेम संबंध हुए और फिर शादी का फैसला लिया। भावना ने बताया कि जब सिद्धार्थ के परिवार वाले उसे देखने गए थे तो सभी ने सास किरन की बड़ी तारीफ की थी। शादी के तीसरे दिन घर में सास ने ही कलह शुरू कर दी थी। अक्सर वह पति से कहती थीं कि गांव की लड़की से शादी कर ली। आए दिन विवाद के बाद बेटे-बहू ने खुद को घर के पिछले हिस्से में ही सीमित कर लिया था।

Edited By: Abhishek Verma