जागरण संवाददाता, कानपुर: भैरोघाट पर पीएनजी गैस पाइप लाइन में आग लगने से तीन हजार से अधिक घरों में गैस की आपूर्ति दिनभर ठप रही। जिला कारागार में बंदियों के लिए खाना नहीं बन सका। प्रशासनिक अधिकारियों के यहां भी चूल्हे ठंडे हो गए। सीयूजीएल की टीम फाल्ट तलाशने में लगी रही जो शाम तक नहीं खोजा जा सका। रात करीब 10 बजे इसे ठीक कर दिया गया।

रविवार को सुबह 11:15 बजे भैरोघाट गेट पर रिलायंस जियो के चेंबर से आग निकलने लगी जिससे वहां खलबली मच गई। घटनास्थल के पास ही अग्निशमन सप्ताह मनाया जा रहा था, जहां फायर ब्रिगेड की गाड़ी मौजूद थी। दमकल ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाया।

घटना के चलते आर्यनगर, कई अपार्टमेंट, ग्वालटोली, सिविल लाइंस, कचहरी के आसपास, पुलिस लाइन, आइजी बंगले के आसपास, प्रशासनिक कालोनी, तिलक नगर समेत कई क्षेत्रों में गैस की आपूर्ति बाधित हो गई।

सीयूजीएल (गेल) के मुख्य अधिकारी ताल्लुकदार ने बताया कि लीकेज पाइप लाइन को ठीक करने के लिए टीम लगायी गई है। गैस की आपूर्ति रोक दी गई है। जिला कारागार में भी पीएनजी गैस की आपूर्ति नहीं दी जा सकी। करीब 1000 घरों एवं 15 से अधिक रेस्टोरेंट में गैस की आपूर्ति बंद है।

जेल में आधा अधूरा खाना बना

जिला कारागार में पीएनजी गैस आपूर्ति बाधित होते ही बंदियों का आधा अधूरा खाना ही बन सका। जेलर धीरज सिन्हा ने बताया कि वैकल्पिक व्यवस्था सिलेंडर की थी, जिससे खाना तैयार किया गया।

Posted By: Jagran