चित्रकूट, जेएनएन। किसान के घर से जबर्दस्ती ट्रैक्टर उठा लाने और उसके भाई से गाली-गलौज करने वाली कोतवाली पुलिस आखिर फंस ही गई। कर्वी कोतवाली में अपने ही कोतवाल, दो दारोगा, पांच अन्य पुलिसकर्मी व चार अन्य के खिलाफ पुलिस को मुकदमा दर्ज करना ही पड़ा। कोर्ट का आदेश होने के बावजूद एक पखवारे तक टालमटोल करती रही पुलिस को कोर्ट का तीसरा नोटिस मिलने के बाद मुकदमा दर्ज करने को मजबूर होना पड़ा।

बनवारी रोड कसहाई गांव के नई दुनिया मजरा निवासी चंदन सिंह ने मुकदमा दर्ज कराया है कि 22 जून 2020 को दोपहर 12 बजे कोतवाली प्रभारी पंकज कुमार पांडेय पुलिसकर्मियों व अन्य ग्रामीणों समेत उनके भाई विनोद कुमार के घर पहुंचे। विनोद कुमार का ट्रैक्टर जबरन ले जाना शुरू किया तो उन्होंने विरोध किया। कोतवाल पंकज पांडेय, दारोगा शिवपूजन यादव, विजय यादव ने उन्हें जातिसूचक शब्द कहकर गालियां दीं। कोतवाल ने कहा कि ज्यादा बड़े नेता मत बनो नहीं तो अनेक फर्जी मुकदमे दर्ज कर दूंगा। साथ ही जान से मारने की धमकी भी दी।

चंदन सिंह के अनुसार यह घटना पूरे मोहल्ले ने देखी। इसके बाद उन्होंने इस मामले में कोतवाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए एसपी से लेकर डीजीपी तक गुजार लगाई, लेकिन मुकदमा दर्ज नहीं हुआ। उन्होंने विशेष न्यायाधीश की कोर्ट में याचिका आवेदन दाखिल करके मुकदमा दर्ज कराने की मांग की। कोर्ट ने 24 जुलाई को मुकदमा दर्ज करने का आदेश दे दिया, लेकिन पुलिस मुकदमा दर्ज नहीं कर रही थी। कोर्ट से तीसरा नोटिस जारी होने के बाद पुलिस ने 10 अगस्त को सभी आरोपितों के खिलाफ डकैती, गाली गलौज, जान से मारने की धमकी देने और एससी-एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया। कोतवाली कर्वी प्रभारी निरीक्षक पंकज कुमार पांडेय ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर मुकदमा दर्ज किया गया है। मुकदमे की विवेचना सीओ कर्वी कर रहे हैं।

इनके खिलाफ दर्ज हुआ केस

कोतवाल पंकज पांडेय, दारोगा शिवपूजन यादव, दारोगा विजय यादव, पांच अन्य पुलिसकर्मी, नई दुनिया निवासी भगवानदीन पटेल, अश्वनी, चकला राजरानी निवासी नवल पटेल और पहाड़ी के गांव चिल्ला माफी निवासी ओमप्रकाश।

Posted By: Abhishek Agnihotri

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस