जासं, कानपुर: जिले के 200 आंगनबाड़ी केंद्रों में सुविधाएं बढ़ाने को सीएसजेएमयू, उद्योगपतियों व महाविद्यालयों ने मिलकर कदम बढ़ाया है। गुरुवार को विवि में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आंगनबाड़ी केंद्रों को खेल उपकरण व अन्य सामग्री वितरित की और विवि से संबद्ध 637 कालेजों के जियो टैगिग पोर्टल का शुभारंभ किया। आंगनबाड़ी केंद्र गोद लेने वाले उद्यमियों, महाविद्यालयों के प्राचार्य व प्रबंधकों को प्रमाणपत्र दिए। साथ ही टीबी मुक्त भारत बनाने की शपथ दिलाई।

राज्यपाल ने कहा कि उद्यमी खुद आंगनबाड़ी केंद्र में बच्चों को उपहार दें और उनके चेहरों की मुस्कान देखें। आंगनबाड़ी केंद्रों का टाइमटेबल बदलने और तीन दिवसीय प्रशिक्षण कराने की जरूरत बताई। बोलीं, कार्यकर्ता बच्चों से मां जैसा व्यवहार करें। पांचवें राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे की रिपोर्ट बताते हुए कहा कि अस्पतालों में डिलीवरी का ग्राफ 67 से बढ़कर 83 प्रतिशत और सेनेटरी पैड का प्रयोग 47 से बढ़कर 73 प्रतिशत हुआ है। 10 प्रतिशत महिलाएं डायबिटिक, 20 प्रतिशत ब्लड प्रेशर की मरीज और 15 वर्ष से ज्यादा उम्र की 50 प्रतिशत महिलाएं एनिमिक हैं। छात्राओं में एनीमिया रोग दूर करने के लिए ब्लड टेस्ट करवाएं। जेलों में महिलाओं की स्थिति पर चिता भी जताई और 1000 महिलाओं को रिहा कराने के लिए सीएम से बात करने की जानकारी दी।

कुलपति ने जियो टैगिग पोर्टल के फायदे बताते हुए कहा कि अब सभी कालेजों का ब्योरा पोर्टल पर मिलेगा। पोर्टल पीपीएन कालेज के एसोसिएट प्रो. डा. सतीश चंद्र व असिस्टेंट प्रोफेसर डा. काशिफ इमदाद ने तैयार किया है। जिला पंचायत अध्यक्ष स्वप्निल वरुण, उच्च शिक्षा राज्य मंत्री नीलिमा कटियार, औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने भी विचार रखे। सांसद देवेंद्र सिंह भोले, महापौर प्रमिला पांडेय, विधायक भगवती प्रसाद सागर, मंडलायुक्त राजशेखर, डीएम विशाख जी अय्यर, कुलसचिव अनिल यादव, प्रो. संजय स्वर्णकार, प्रो. सुधीर अवस्थी, डा. राशि अग्रवाल, डा. विवेक सचान, इंद्रपाल सिंह आदि रहे।

----

इन्हें दिया गया सम्मान

मुख्तारुल अमीन, केके दुबे, अशरफ रिजवान, लाडली प्रसाद, उमंग अग्रवाल, मनोज बंका, जावेद इकबाल, शशिकांत वर्मा, बलराम नरूला, आरके जालान, सुदीप गोयनका, अरुण गुप्ता, अनुराग लोहिया, रिटायर्ड मेजर जनरल विनोद कुमार समेत 21 उद्यमियों, उपायुक्त उद्योग सुधीर कुमार को सम्मानित किया गया। आंगनबाड़ी केंद्रों से रेखा, प्रमिला, सोनी, रानी, उमा, बबीता, कुसुमलता, सावित्री, ममता व सरोजिनी को सामग्री दी।

----

जियो टैगिग में सामने आया, नियम विरुद्ध चल रहे कई कालेज

जियो टैगिग में सामने आया है कि विभिन्न जिलों में 50 से ज्यादा डिग्री कालेज नियम विरुद्ध चल रहे हैं। नाम न लिखने की शर्त पर एक शिक्षक ने बताया कि कानपुर देहात में तो एक ही परिसर में चार कालेज संचालित हो रहे हैं। ऐसे कालेजों की सूची तैयार कर ली है। जांच के बाद मानकों पर खरा न उतरने वाले कालेजों के खिलाफ कार्रवाई भी होगी।

Edited By: Jagran