जागरण संवाददाता, कानपुर : काकादेव पांडुनगर में जेके मंदिर गेट के पास गुरुवार देर रात नशे में धुत चालक ने काल बनकर बस दौड़ाई और तीन कारों, एक राहगीर और बिजली खंभों को टक्कर मारते हुए ढाई फुट ऊंचे डिवाइडर पर चढ़ा दी। हादसे में कार सवार गजनेर का युवक, पैदल जा रहे गोविंदनगर के बिजली मिस्त्री गंभीर रूप से घायल हो गए। लोगों ने चालक की जमकर पिटाई की। घटना से पांडुनगर से नरेंद्र मोहन सेतु की ओर यातायात बाधित हो गया। पुलिस ने दूसरी लेन से वाहनों को गुजारा। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक हादसे से पूर्व बस चालक ने फजलगंज के पास स्कूटी सवार दो युवतियों को भी टक्कर मारी थी।

गजनेर (कानपुर देहात) निवासी परचून व्यापारी दिनेश कुमार ने बताया कि वह रात साढ़े 10 बजे अपनी मां रन्नो देवी की पालीवाल डायग्नोस्टिक सेंटर में जांच कराने पिता रमेश, चाचा छुटकू के साथ मारुति वैन से आए थे। मां को अंदर ले जाकर बैठाया और चाचा कार में ही बैठे रहे। करीब पौने 12 बजे मरियमपुर की ओर से तेज रफ्तार बस आई और किनारे खड़ी दो एंबुलेंस से रगड़ते हुए व किनारे स्थित बिजली खंभों को टक्कर मारते हुए चाचा की कार में जा भिड़ी। टक्कर से चाचा की कार कई मीटर आगे खिसक गई। तेज आवाज होने पर दिनेश व पैथोलॉजी के स्टॉफ के साथ ही राहगीर भी दौड़े, तभी बस अनियंत्रित होकर डिवाइडर पर चढ़ गई। इस दौरान गोविंदनगर बी ब्लॉक निवासी बिजली मिस्त्री विनय मिश्रा भी बस की चपेट में आकर घायल हो गए।

घटना के बाद दोनों लेन का ट्रैफिक रुक गया। भीड़ ने बस चालक को खींचकर पीटना शुरू कर दिया। पुलिस उसे थाने ले गई। थाना प्रभारी राजीव सिंह ने बताया कि बस पर अरोड़ा टूरिस्ट बस सर्विस व उसके नंबर लिखे हैं। फोन करने पर पता लगा कि कुछ समय पहले ही यह बस किसी राशिद नामक व्यक्ति को बेची गई थी। वहीं बस सर्विस के मालिक विकास अरोड़ा ने भी बताया कि उन्होंने काफी पहले ही यह बस बेच दी थी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप