जागरण संवाददाता, कानपुर दक्षिण : गर्मी आते ही दक्षिण में पानी को लेकर हाहाकार शुरू हो गया है। बर्रा विश्वबैंक के डी-ब्लाक स्थित ट्यूबवेल के पाइप लीकेज होने से क्षेत्र में पानी का संकट गहरा गया है। लोग प्यास बुझाने को हैंडपंप व आसपास घरों में लगे सबमर्सिबल पंप का सहारा ले रहे हैं। पार्षद की शिकायत के बाद जिम्मेदारों ने लीकेज पाइप तो निकाल लिए लेकिन उनके स्थान पर नए पाइप नहीं डाले गए हैं।

वार्ड-45 के विश्वबैंक-डी ब्लाक में बने ट्यूबवेल के कई पाइप लीकेज होने के चलते प्रेशर लो था। पूरे क्षेत्र में जलापूर्ति नहीं हो पा रही थी। एक सप्ताह से आपूर्ति बाधित होने पर स्थानीय निवासी अनीता भूटानी, अतुल शुक्ल, अन्नू चंदेल, प्रताप ¨सह आदि ने पार्षद को जानकारी दी। जोन-5 के अधिशासी अभियंता योगेश श्रीवास्तव से शिकायत की। ट्यूबवेल खुलवाया तो उसमें दो पाइप पूरी तरह लीकेज निकले। पांच दिन बाद भी पाइप न बदले जाने पर पार्षद अर्पित यादव ने जलकल के महाप्रबंधक से शिकायत की है। पार्षद ने बताया, डी-ब्लाक के ट्यूबवेल से विश्वबैंक के डी, ई, एच, एच-1, बर्रा-8 में ए व बी समेत अन्य ब्लाकों में जलापूर्ति बाधित है। जहां पानी आ भी रहा है वह सीवर युक्त है। जलापूर्ति न होने से करीब 50 हजार की आबादी प्यासी है।

इस मामले में जलकल महाप्रबंधक आरपी सिंह सलूजा ने कहा कि पांच दिन बाद भी ट्यूबवेल के लीकेज पाइप न बदले जाने की जानकारी हुई है। जोन-5 के अधिशासी अभियंता को गुरुवार को पाइप बदलवाने का काम कराने को कहा है।

Posted By: Jagran