कानपुर, जेएनएन। विजयनगर से गोविंदनगर की ओर जाने वाले रास्ते में दादानगर क्रासिंग का फाटक बंद होने पर लोगों को जाम से जूझना पड़ता है। इससे छुटकारा दिलवाने के लिए सेतु निगम की ओर से टू लेन पुल की प्राथमिक डीपीआर को तैयार कर ली है। यूटिलिटी ब्योरा का खर्च अभी तक नहीं मिलने से बिना इसे शामिल किये ही शासन भेजा जाएगा।

अभी तक विजयनगर, शास्त्री नगर, डबल पुलिया, सर्वोदय नगर, रावतपुर, कल्याणपुर सहित अन्य जगहों से गोविंदनगर, बर्रा, रतनलालनगर, दबौली, गुजैनी सहित अन्य जगहों की ओर जाने वाले वाहन सवारों को दादानगर क्रासिंग का फाटक बंद होने पर घंटों जाम में फंसना पड़ता है। इससे बचने के लिए दोपहिया वाहन सवार दादानगर लेबर कालोनी, रेलवे कच्ची बस्ती होते हुये गोविंदनगर पहुंचते और बड़े वाहन सवार दादानगर पुल चढ़कर उलटी दिशा से होकर जाते हैं। ऐसे में जाम और हादसे होते हैं। इससे निजात दिलवाने के लिए सेतु निगम के परियोजना प्रबधंक केएन ओझा के नेतृत्व में डीपीआर तैयार कर लिया है, लेकिन समानांतर पुल बनाने में आड़े आ रहीं जलनिगम, जलकल और केस्को की लाइन शिफ्ट करने में आने वाले खर्च का ब्योरा एक माह पहले पत्र लिखकर मांगा था। अभी तक यह नहीं मिल पाया है। जबकि रेल मंत्रालय की ओर से पुल के लिए बजट जारी हो चुका है। केएन ओझा ने बताया कि बिना यूटिलिटी शामिल किये ही प्राथमिक डीपीआर भेजेंगे। स्वीकृति मिलने के बाद इसे वास्तविक डीपीआर में शामिल करेंगे।

दो हाइवे पर जाना होगा आसान: समानांतर पुल बन जाने से सीटीआइ, गोविंदनगर, शास्त्री चौक और बर्रा पांच होते हुए कानपुर-इटावा हाईवे की सर्विस रोड पहुंच जाएंगे और इन्हीं रास्तों से बर्रा आठ बसंत पेट्रोल से वनपुरवा और फत्तेपुर होते हुये हमीरपुर-सागर हाईवे पर पहुंच सकेंगे।

पुल पर एक नजर

  • लंबाई: 708 मीटर
  • चौड़ाई: टू लेन
  • लागत: 59 करोड़

Edited By: Shaswat Gupta