फर्रूखाबाद, जेएनएन। प्लाट पर कब्जे को लेकर हुए विवाद के बाद आतंक कायम करने के लिए तीन सगे भाइयों ने अपने साथियों के साथ मिलकर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। इससे मोहल्ले में अफरा-तफरी मच गई। बवाल को देखने घर से बाहर निकले आठ वर्षीय बालिका समेत पांच पड़ोसी घायल हो गए। मोहल्ले वालों ने जब हमलावरों को ललकारा तो वह एक बाइक और तमंचा छोड़कर भाग निकले। घायलों को सीएचसी में भर्ती कराया गया। पुलिस आरोपितों की तलाश में छापेमारी कर रही है, लेकिन वह हाथ नहीं लगे।

जवाहरनगर निवासी योगेंद्र सिंह के स्वजन का एक प्लाट रविदास नगर में पड़ा है। स्वजन बाहर रहते हैं। इस प्लाट पर मोहल्ले के ही तीन भाई प्रदीप यादव, मंजीत, अमित उर्फ गल्लर मवेशी बांधकर कब्जा किए हैं। इस मामले में योगेंद्र सिंह पुलिस से भी शिकायतें की थीं, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। लगातार शिकायतें करने के कारण शनिवार सुबह 10.30 बजे खेतों से लौट रहे योगेंद्र सिंह के साथ प्रदीप यादव ने मारपीट कर दी। उसके बाद योगेंद्र ने अपने स्वजन के साथ मिलकर प्रदीप को पीट दिया। उसके बाद प्रदीप यादव अपने दोनों भाइयों और अन्य साथियों के साथ बाइक से योगेंद्र सिंह के दरवाजे पर पहुंचा और तमंचों से ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। इससे मोहल्ले में अफरा-तफरी मच गई। इस दौरान बवाल को देखने के लिए घर के बाहर निकले पड़ोसी रमेश सिंह की पत्नी सुधा देवी व उनका पुत्र देवेंद्र, विश्राम सिंह, आठ वर्षीय बालिका रागिनी पुत्री प्रमोद और पुष्पेंद्र गोली लगने से घायल हो गए। मोहल्ले के लोगों ने जब ललकारा तो सभी हमलावर मौके से भागे। इस दौरान एक बिना नंबर की बाइक और तमंचा वहीं छूट गया। पुलिस ने घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य भेजा। घटना की पूछताछ के बाद पुलिस ने आरोपितों के घर दबिश दी। पुलिस को घटनास्थल पर मिली बिना नंबर की बाइक और तमंचा कब्जे में ले लिया। योगेंद्र ने उक्त तीनों भाइयों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। कोतवाली प्रभारी दिलीप कुमार बिंद ने कहा कि तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर आरोपितों की तलाश की जा रही है। जल्द ही उनकी गिरफ्तारी की जाएगी।

 

Edited By: Akash Dwivedi