जागरण संवाददाता, कानपुर : शिलान्यास पट को लेकर भाजपा में विवाद गहराया हुआ है। रविदासपुरम में जुलाई में लगाए गए शिलान्यास पत्थर में गली की सीमाओं के भ्रम के चलते सांसद सत्यदेव पचौरी की जगह देवेंद्र सिंह भोले और विधायक सुरेंद्र मैथानी की जगह औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना का नाम लिख गया था। गुरुवार को सांसद सत्यदेव पचौरी ने डीएम को पत्र लिखकर जांच के लिए कहा है कि उनके संसदीय क्षेत्र में सांसद देवेंद्र सिंह भोले का नाम कैसे लिखा गया।

जुलाई में मुख्यमंत्री नगरीय अल्प विकसित व मलिन बस्ती विकास योजना में वार्ड नौ रविदासपुरम में आंबेडकर ऑडिटोरियम से जेएस इंटर कालेज तक इंटरलांकिग व नाली निर्माण का शिलान्यास किया गया। इस पर सांसद देवेंद्र सिंह भोले का नाम लिखे होने पर उन्होंने कहा था कि उन्हें इस शिलान्यास के बारे में जानकारी नहीं है। अब सांसद सत्यदेव पचौरी ने डीएम को पत्र लिखा है। उन्होंने बताया कि मेरे संसदीय क्षेत्र में दूसरे सांसद के नाम का पत्थर किस अधिकारी की गलती से लगा है, इसकी जांच कर डीएम से कार्रवाई की मांग की है। वहीं एमएलसी अरुण पाठक ने कहा कि जिस दिन शिलान्यास करने गया था, उसी दिन लगा था कि क्षेत्र के भ्रम की वजह से अधिकारी से सांसद व क्षेत्रीय विधायक का नाम गलत हो गया था। डूडा के अधिकारी से कहा था कि वह क्षेत्र के बारे में ठीक से जानकारी कर लें और उसके हिसाब से पत्थर ठीक करा लें।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस