जागरण संवाददाता, कानपुर : लोकसभा चुनाव के लिए सटीक रणनीति बनाने को कांग्रेस हाईकमान ने अब एक-एक जिले पर पैनी निगाह जमा दी है। जिला कार्यकर्ता सम्मेलन के जरिए संगठन की स्थिति परखी जा रही है। शुरुआत कानपुर से हुई है और पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के पास कानपुर कांग्रेस की कुंडली पहुंच चुकी है, जिसमें गुटबाजी और क्लेश की बात खुलकर लिखी गई है। अब इसी आधार पर चुनावी एक्शन का इंतजार है।

भाजपा का विजय रथ रोकने के लिए कांग्रेस जमीनी स्तर पर अपने संगठन को चुस्त-दुरुस्त करने में जुट गई है। चुनाव जीतने के लिए जनता का भरोसा सबसे ज्यादा जरूरी है। इस भरोसे की नीव कार्यकर्ता रखते हैं। यह ध्यान में रखते हुए जनता के बीच पैठ बनाने के लिए जिला कार्यकर्ता सम्मेलनों में कार्यकर्ताओं की बात सुनने का निर्णय लिया गया है। पार्टी पदाधिकारियों ने बताया कि पिछले दिनों कानपुर में हुए कार्यकर्ता सम्मेलन की रिपोर्ट राष्ट्रीय महासचिव व प्रदेश प्रभारी गुलाम नबी आजाद और प्रदेशाध्यक्ष राज बब्बर ने बिंदुवार तैयार की है। किस कार्यकर्ता ने क्या बात की, किस नेता की शिकायत की और गुटबाजी के आरोप किन-किन वरिष्ठ नेताओं पर हैं? इन सभी बिंदुओं का उल्लेख करते हुए रिपोर्ट राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को भेज दी है। बताया गया है कि एक रिपोर्ट तो सम्मेलन खत्म होते ही ई-मेल के जरिए भेज दी गई थी और उसके बाद हार्ड कॉपी भी हाईकमान भेज दी गई है। जिला सम्मेलन सभी जगह होने के बाद एक-एक रिपोर्ट के आधार पर संबंधित जिले के लिए चुनावी रणनीति तैयार की जाएगी। लोकसभा चुनाव के लिए टिकट का बंटवारा भी उसी आधार पर किया जाएगा।

Posted By: Jagran