कानपुर, जेएनएन। छत्रपति शाहू जी महाराज विवि (सीएसजेएमयू) परिसर में 31 अगस्त को बीटेक छात्रों के बीच हुई मारपीट मामले में विवि प्रशासन ने कार्रवाई कर दी है। दो छात्रों को एक सेमेस्टर के लिए निलंबित कर दिया गया, जबकि दो अन्य पर 50-50 हजार का अर्थदंड लगाया गया है। विश्वविद्यालय स्टाफ के बेटे समेत चार पूर्व छात्रों के अगले छह माह के लिए परिसर में घुसने पर पाबंदी लगाई गई है। यह कार्रवाई जांच कर रही पांच सदस्यीय समिति की रिपोर्ट के बाद हुई। कुलपति प्रो. विनय कुमार पाठक ने इस पर मुहर लगा दी है।

विवि में बीटेक छात्रों के बीच जमकर मारपीट हुई थी, जिसमें कई छात्र घायल हो गए थे। कल्याणपुर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपित छात्रों पर कार्रवाई की थी। कुलपति ने पांच सदस्यीय कमेटी का गठन कर जांच करने का निर्देश दिया था। कमेटी ने मंगलवार को अपनी रिपोर्ट सौंप दी। विवि के कुलअनुशासक व मीडिया प्रभारी प्रो. संजय स्वर्णकार ने बताया कि यूआइटी के बीटेक प्रथम वर्ष के केमिकल इंजीनियरिंग के आयुष मिश्रा और प्रशांत चौबे को एक सेमेस्टर के लिए निलंबित किया गया है। वे दूसरे सेमेस्टर की परीक्षा नहीं दे पाएंगे। उन्हें आठवें सेमेस्टर के बाद द्वितीय सेमेस्टर की परीक्षा देने का मौका मिलेगा, वह भी तब जब इन चार वर्षों में उनके कार्य व व्यवहार संतोषजनक होंगे। छात्रों से प्रति विषय निर्धारित फीस ली जाएगी। प्रशांत चौबे को छात्रावास से निष्कासित कर दिया है। एमएसएमई प्रथम वर्ष के शाश्वत शुक्ला और केमिकल इंजीनियरिंग अंतिम वर्ष के छात्र दिव्यांश गुप्ता पर 50-50 हजार रुपये का अर्थदंड लगाया गया है। शाश्वत को भी छात्रावास से निष्कासित कर दिया गया है। विवि कर्मी का बेटा राजवीर साहू समेत पूर्व छात्रों सुधांशु यादव, शुभम सिंह और वीर विक्रम सिंह के छह माह तक परिसर में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया गया है।

Edited By: Abhishek Agnihotri