कानपुर, जागरण संवाददाता। कोरोना वायरस महामारी की तीसरी लहर की भी आशंका जताई जा रही है। इसे ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य महकमे ने नवंबर के अंत तक हर हाल में कोरोना वैक्सीनेशन की पहली डोज प्रत्येक व्यक्ति को लगाने के निर्देश दिए हैं। ताकि जल्द से जल्द जिले में लक्ष्य पूरा किया जा सके। इसके लिए ही दो शिफ्ट में वैक्सीनेशन शुरू किया गया है।

कोरोना वायरस महामारी से बचाव के लिए जिले में जनवरी 2021 से कोरोना वैक्सीनेशन की शुरूआत की गई थी। सबसे पहले कोरोना वायरस से संक्रमितों का इलाज करने वाले हेल्थ केयर वर्कर को वैक्सीन लगाने की शुरूआत की गई थी, जिससे उन्हें वायरस के संक्रमण से बचाया जा सके। उसके बाद दूसरे चरण में हेल्थ केयर वर्कर का सहयोग करने वाले पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों और कर्मचारियों को वैक्सीन लगवाने की शुरूआत की गई। उसके बाद फिर से वैक्सीनेशन का दायरा बढ़ाया गया, जिसमें 60 वर्ष के बुजुर्ग, गंभीर बीमारियों से पीडि़तों को वैक्सीन की सुरक्षा प्रदान करने का निर्णय लिया गया। हालांकि  उसके बाद ही वैक्सीनेशन के लिए 45 वर्ष तक के सामान्य लोगों को भी शामिल कर लिया गया। हालांकि वैक्सीनेशन का दायरा बढऩे पर वैक्सीन की कमी भी होने लगी। इस पर पहली और दूसरी डोज के बीच का समय अंतराल बढ़ा दिया गया, पहले 52 दिन गया गया। उसके बाद उसे बढ़ाकर 84 दिन कर दिया गया है। अब धीरे धीरे वैक्सीन की उपलब्ध सामान्य हो चली है।

वैक्सीन पर एक नजर:

34,44,850 का जिले में वैक्सीनेशन का लक्ष्य

32,69,871 डोज वैक्सीन अब तक लगाई गई

23,09,410 लोगों को लगी वैक्सीन की पहली डोज

9,60,461 लोगों को लगी वैक्सीन की दूसरी डोज

बोले जिम्मेदार: जिले में लक्षित आबादी को पहली डोज 30 नंवबर तक पूरा करने का निर्देश दिया गया है। इसे ध्यान में रखते हुए स्कूल-कालेजों और शापिंग माल में भी कैंप लगाए जा रहे हैं। वैक्सीनेशन अब दो शिफ्टों में कराया जा रहा है। पहली शिफ्ट सुबह नौ से चार बजे तक तथा दूसरी शिफ्ट चार से रात 10 बजे तक। ताकि अधिक से अधिक वैक्सीनेशन हो सके। - डा. जीके मिश्रा, अपर निदेशक, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, कानपुर मंडल।

Edited By: Abhishek Agnihotri