कानपुर, जागरण संवाददाता। शहर में नालों की सफाई में बरती गई लापरवाही दैनिक जागरण ने प्रकाशित होने के बाद अब अधिकारियों को भी उसकी ठेकेदार और अभियंताओं के कार्याें की हकीकत पता चलने लगी है। मंगलवार सुबह नगर निगम के मुख्य अभियंता एसके सिंह ने टीम के साथ वार्ड-88 बसंत विहार के मुख्य नालों का निरीक्षण किया तो उसमें सिल्ट भरी मिली। नाला सफाई में लापरवाही मिलने पर मुख्य अभियंता की रिपोर्ट पर नगर आयुक्त ने ठेकेदार को ब्लैकलिस्ट करने के साथ अवर अभियंता को प्रतिकूल प्रविष्टि और सुपरवाइजर का वेतन रोकने के निर्देश दिए।

शहर में वर्षा से पहले नालों की सफाई होने का निर्धारित समय बीत चुका है, लेकिन अब तक शहर के सभी नाले सार्फ नहीं हो सके हैं, जो नाले साफ हुए हैं। उसमें भी लापरवाही बरती गई। कहीं नाले में सिल्ट मिल रही तो किसी की अब तक सफाई ही नहीं हुई। शहर के ऐसे भी कई नाले हैं, जिसके बारे में खुद अधिकारियों को जानकारी नहीं हैं। इसको लेकर नगर आयुक्त ने बीते दिनों सभी अभियंताओं की समीक्षा बैठक बुलाकर चेतावनी भी दी थी। दैनिक जागरण भी लगातार नालों की सफाई में बरती गई लापरवाही को प्रकाशित कर रहा है। मंगलवार सुबह मुख्य अभियंता एसके सिंह ने वार्ड 88 बसंत विहार में हमीरपुर रोड से काठ की पुलिया तक जाने वाला नाला और हमीरपुर रोड से सीओडी नाले की सफाई व्यवस्था देखी। 

नाले में सिल्ट और उसका पानी मिला। ठेकेदार प्रथा साफ कराए गए नाले को सही से साफ न किए जाने से वर्षा में जलभराव की आशंका है। इसकी रिपोर्ट मुख्य अभियंता ने नगर आयुक्त को दी।नगर आयुक्त ने ठेकेदार को काली सूची में दर्ज करने, जोन तीन के अवर अभियंता सिद्धार्थ कुमार को प्रतिकूल प्रविष्टि और सुपरवाइजर शिम्पू वर्मा का वेतन रोकने के मुख्य अभियंता और प्रभारी अधिकारी कार्मिक पूजा त्रिपाठी को निर्देश दिए।

Edited By: Abhishek Verma