कानपुर, जेएनएन। नहर में नाले का पानी डालकर दूषित करने वालों के खिलाफ सालभर बाद भी जलकल ठोस कार्रवाई की योजना तैयार नहीं कर पाया है। इस वजह लोग बेधड़क नहर में दूषित पानी बहा रहे हैं। 

नहर में गंदगी फैलाने वाले के खिलाफ नगर आयुक्त अक्षय त्रिपाठी ने आदेश जारी किए थे कि नहर में जो भी लोग घरों का दूषित पानी बहा रहे हैं। उनको चिह्नित कर सख्त कार्रवाई की जाए, लेकिन सालभर बीत जाने के बाद भी अभियंता कोई ठोस योजना नहीं बना पाए हैं। वहीं, सबसे ज्यादा समस्या गोविंद नगर से निकली नहर में है। यहां कच्ची बस्ती के लोगों के घरों का पानी निकलने की कोई जगह नहीं है, इसके कारण घरों का दूषित पानी नहर में जाता है। 

नहर में पानी बंद होने पर आती है बदबू: नहर के चौड़ीकरण के दौरान कई बार नहर में पानी बंद कर दिया जाता है। इसके बाद भी लोग दूषित पानी को बहा देते हैं। इससे नहर में भीषण बदबू आती है।