कानपुर, जेएनएन। यूपी विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस जनाधार बढ़ाने के लिए प्रियंका वार्ड के नेतृत्व में प्रदेश में 13 हजार किमी लंबी यात्रा निकालने जा रही है, जिसके लिए शहरों में तैयारियां तेज हो गई हैं। इस यात्रा के क्रम में कानपुर में 23 अक्टूबर को प्रस्तावित रैली के लिए स्थानीय नेताओं ने जगह की तलाश तेज दी है। प्रत्याशी पद के दावेदारों के लिए भी अपना बेहतर दिखाने के लिए रैली एक बड़ा मौका साबित हो सकता है। इसके चलते स्थानीय दावेदार तेजी से तैयारी में जुट गए हैं।

कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के लिए कमर कस ली है। अब तय हो चुका है कि पार्टी राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा के चेहरे पर प्रत्याशी उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ेंगे। इसके लिए पार्टी ने प्रदेश में 13 हजार किमी लंबी यात्रा निकालने का निर्णय लिया है। यह यात्रा सात अक्टूबर से शुरू होगी, जो प्रदेश के विभिन्न शहरों और जिलों से होकर गुजरेगी।प्रियंका कई बड़े शहरों में पार्टी का जनाधार बढ़ाने के लिए रैली भी करेंगी। कानपुर इसमें एक है, इसके लिए शहर कांग्रेस कमेटी ने दो जगह प्रस्तावित की हैं।

कुछ और जगहों पर भी विचार चल रहा है। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका 23 अक्टूबर को कानपुर में रैली करेंगी।इसके लिए तिलक हाल में राष्ट्रीच सचिव रोहित चौधरी के नेतृत्व में बैठक हो चुकी है। शहर कांग्रेस कमेटी उत्तर के जिलाध्यक्ष नौशाद आलम मंसूरी के नेतृत्व में राष्ट्रीय सचिव ने चमनगंज के हलीम कालेज ग्राउंड और चुन्नीगंज के जीआइसी कालेज का निरीक्षण किया।

बता दें निराला नगर को लेकर भी विचार चल रहा है।मैदान का चुनाव कुछ खास बिंदुओं पर आधारित होगा। इसमें आवागमन का आसान रास्ता, पार्किंग, अधिक क्षमता का मैदान ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग पहुंच सकें। कानपुर में होने वाली रैली कांग्रेस मेनीफेस्टो यात्रा का एक हिस्सा है। कांग्रेस जिलाध्यक्ष बताते हैं कि रैली के स्थान का प्रस्ताव प्रदेश कांग्रेस कमेटी को भेज दिया गया है। वहां से जल्द ही एक कमेटी आकर स्थान का निरीक्षण करेगी। अभी कुछ और जगहों पर भी मंथन चल रहा है। जल्द ही प्रदेश के बड़े नेताओं के साथ बैठक कर उन पर भी विचार किया जाएगा। रैली स्थल के चयन का अंतिम निर्णय प्रदेश कांग्रेस कमेटी का होगा।

Edited By: Abhishek Agnihotri