मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

कानपुर,जेएनएन। काउंसिल फॉर लेदर एक्सपोर्ट (सीएलई) इटली के गारडा फेयर के लिए इंडियन फुटवियर कंपोनेंट्स मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन (इफकोमा) की दो दिवसीय प्रदर्शनी से भी कंपोनेंट का चयन होगा। यह प्रदर्शनी 15 व 16 अप्रैल को उन्नाव में बंथर स्थित केएलसी कांप्लेक्स में होगी।
इफकोमा के अध्यक्ष अजय गुप्ता, सचिव विकास राठी, सीएलई के पूर्व चेयरमैन मुख्तारुल अमीन, आरके जालान, क्षेत्रीय अध्यक्ष जावेद इकबाल, राकेश सूरी ने संयुक्त पत्रकार वार्ता में बताया कि इफकोमा शूटेक कानपुर 2019 में देश के कई शहरों से फुटवियर से जुड़े उद्यमी शामिल होंगे। उन्होंने बताया कि जूते में 62 कंपोनेंट होते हैं। इन सभी कंपोनेंट का इसमें प्रदर्शन होगा।
भारत जूते की खपत वाला विश्व का दूसरा सबसे बड़ा देश है। यहां दो पेयर की खपत है जबकि चीन की तीन पेयर की। भारत में खपत बढ़ रही है और चार पेयर प्रतिवर्ष की खपत होते ही भारत दुनिया का सबसे ज्यादा खपत वाला देश हो जाएगा। उनके मुताबिक कानपुर रीजन का एक्सपोर्ट छह हजार करोड़ रुपये का है। इसमें से 1,800 करोड़ रुपये का एक्सपोर्ट फुटवियर का है। उनके अनुसार यह कानपुर में इफकोमा का 11वां संस्करण है। इस प्रदर्शनी में दिल्ली, आगरा, कानपुर, नोएडा, गुडगांव, लुधिायाना, चेन्नई से 55 उद्यमी आ रहे हैं।  
कुछ भी हो हम पलायन नहीं करेंगे  
सीएलई के पूर्व चेयरमैन मुख्तारुल अमीन ने कहा कि कुछ भी हो जाए। टेनरी वाले कानपुर से पलायन नहीं करेंगे। यहीं से कारोबार शुरू किया है तो यहां से जाने का सवाल नहीं उठता। उन्होंने कहा कि बिजनेस में लाभ होता है तो नुकसान भी होता है। सरकार भी प्रदूषण का मुद्दा नजरअंदाज नहीं कर सकती।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप