कानपुर, जेएनएन। सर्दी और गर्मी के बीच उठापटक जारी है। पिछले चार दिन तक जहां अधिकतम तापमान ने अप्रैल माह का अहसास कराया, वहीं शाम के समय सामान्य से तेज हवा चली। अब दो दिन बाद मौसम फिर से करवट लेगा। पश्चिमी विक्षोभ और क्षेत्रीय स्तर पर बने चक्रवात की वजह से बारिश के आसार हैं। कुछ जगहों पर ओले भी गिरने की आशंका है। यह परिवर्तन 21 मार्च की रात से होगा, जिसका असर 22, 23 और 24 मार्च तक रहेगा। सुबह सूरज निकलेगा तो दोपहर बाद बूंदाबांदी हो सकती है। कासगंज और उन्नाव में 22 से 24 तक वर्षा का अनुमान है। पश्चिमी विक्षोभ का असर जम्मू-कश्मीर से दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र आदि के जिलों में है। यह भूमध्य सागर से उठी तूफानी हवाएं कहलाती हैं। इसकी वजह से अधिकतम तापमान 29-30 डिग्री सेल्सियस से घटकर 24-25 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाएगा। न्यूनतम तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की बढ़त होगी। यह 12-14 डिग्री सेल्सियस से बढ़कर 13-15 होगा।

बारिश प्रभावित होंगे ये जनपद

कानपुर, कानपुर देहात, एटा, हाथरस, कन्नौज, कासगंज, लखीमपुर खीरी, मैनपुरी, मथुरा, झांसी, इलाहाबाद में बारिश की संभावना है। सामान्य से तेज हवा चलेगी।

10 साल में गिरे सर्वाधिक ओले

चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (सीएसए) के मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक साल 2015 में मार्च में काफी ज्यादा बारिश हुई थी। इस साल जितनी ओलावृष्टि हुई है, उतनी 10 साल में कभी नहीं हुई हे। फतेहपुर, बुंदेलखंड, महोबा, झांसी, कौशांबी में काफी ओले गिरे।

क्यों हो रहा परिवर्तन

अधिकतम और न्यूनतम तापमान की अधिकता से कम वायुदाब का क्षेत्र विकसित हो रहा है। क्षेत्रीय स्तर पर चक्रवात भी बन रहा है। इससे बारिश, तेज हवा और ओलावृष्टि की संभावना है।

कानपुर के इन ब्लॉकों में होगी बारिश

बिल्हौर, चौबेपुर, घाटमपुर, कल्याणपुर, ककवन, शिवराजपुर में बारिश हो सकती है।

इनका ये है कहना

मौसम वैज्ञानिक प्रो. नौशाद खान ने बताया कि गुरुवार को अधिकतम तापमान 30.4, न्यूनतम तापमान 13.5 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ। हवा की गति 4.6 किलोमीटर प्रति घंटे रही। अब मौसम का रुख फिर बदलेगा।  

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस