कानपुर, जेएनएन। अयोध्या की सांस्कृतिक सीमा के 60 किलोमीटर के दायरे में किसी भी विदेशी आक्रांता के नाम पर एक इंच भूमि पर भी निर्माण नहीं होने देंगे। जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और वहां भारत के संविधान के अनुसार ही कानून होना चाहिए। ये बातें विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने कहीं। वह श्रीमुनि इंटर कॉलेज गोविंद नगर में आयोजित विहिप कानपुर प्रांत की दो दिवसीय बैठक के शुभारंभ अवसर पर बोल रहे थे।

उन्होंने 26 से 30 जून तक जम्मू में हुई केंद्रीय प्रबंध समिति की बैठक में लिए गए प्रमुख दो संकल्पों के बारे में कार्यकर्ताओं को जानकारी दी। कहा कि जम्मू कश्मीर में 1952 में बनाए गए कुछ कानून आज भी काम कर रहे हैं। अनुच्छेद 370 को अब खत्म किए जाने के साथ ही जम्मू कश्मीर को क्षेत्रफल और आबादी के अनुपात में देखना चाहिए। बताया कि 19 व 20 जून को हरिद्वार में देशभर के महामंडलेश्वर व प्रमुख संतों की बैठक हुई थी। इसमें संकल्प लिया गया था किअयोध्या की सांस्कृतिक सीमा के 60 किमी के दायरे में किसी भी विदेशी आक्रांता के नाम पर किसी भी तरह का निर्माण नहीं होने दिया जाएगा। प्रांतीय अध्यक्ष राजीव महाना, अंबिका गुप्त, वीरेंद्र पांडेय, दीनदयाल गौड़, वंश गोपाल दीक्षित, पनकी पंचमुखी हनुमान मंदिर के महंत महामंडलेश्वर जितेंद्र दास आदि मौजूद रहे।

 

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस