मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

फर्रुखाबाद, जेएनएन। वीरेंद्र देव दीक्षित नाम का शख्स कहने को बाबा है लेकिन उसपर सीबीआइ ने पांच लाख का इनाम रखा है। अब सीबीआइ उसकी तलाश कर रही है, इस क्रम में फर्रुखाबाद और कंपिल में भी छापा मार चुकी है। फर्रुखाबाद में तो सीबीआइ टीम उसके आश्रम में घुस ही नहीं पाई और बाहर ही नोटिस चस्पा कर लौटना पड़ा।

आश्रम में संवासनियों से दुष्कर्म का आरोप

आध्यात्म के नाम पर लड़कियों को बरगलाने और उन्हें कैद करके दिल्ली के आश्रम में रखकर दुष्कर्म करने के सनसनीखेज आरोपों में बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित घिर चुके हैं। मूल रूप से फर्रुखाबाद निवासी बाबा का अभी तक सीबीआइ भी कोई सुराग नहीं लगा सकी है और पांच लाख का इनाम घोषित कर चुकी है। डेढ़ साल से फरार बाबा का पता देश की सर्वोच्च एजेंसी के भी न लगा पाने से तमाम सवाल खड़े हो रहे हैैं।

सिकत्तरबाग के आश्रम में छापा

उसकी तलाश में सीबीआइ के कुछ अधिकारी मंगलवार को मोहल्ला सिकत्तरबाग स्थित ईश्वरीय आध्यात्मिक विद्यालय पहुंचे थे। पर, टीम गेट ही नहीं खुलवा सकी। अंदर संवासिनियां मौजूद थीं। आखिर में अधिकारियों ने आश्रम के संचालक वीरेेंद्र देव दीक्षित की गिरफ्तारी को लेकर घोषित इनाम संबंधी नोटिस चस्पा किया। इसमें पुलिस उपाधीक्षक राजन कुमार झा व संजय कुमार ढल के साथ कर्तव्य अधिकारी के दो मोबाइल नंबर व फैक्स नंबर लिखे हैैं। इसमें कहा गया है कि वीरेंद्र देव पर पांच लाख का इनाम है। उनके बारे में सूचना देने वाले का नाम गोपनीय रखा जाएगा। कार्यालय का पता केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो, विशेष टास्क शाखा 5वां तल, केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो लोधी रोड नई दिल्ली लिखा है।

Posted By: Abhishek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप