जागरण संवाददाता, कानपुर : नौबस्ता में सर्राफ पिता-पुत्र को गोली मारकर लूटने के मामले में पुलिस बोलेरो सवार बदमाशों का सुराग नहीं लगा सकी है। पुलिस उनके भागने के रूट के फुटेज जुटाने में लगी है। गुरुवार शाम तक आरोपितों की उस्मानपुर रोड से भागने की पुष्टि हुई है। अब बर्रा और गोविंद नगर के रास्तों के फुटेज खगाले जा रहे हैं।

एम-ब्लाक किदवई नगर निवासी सुरेश वर्मा की के-ब्लाक किदवई नगर में गायत्री ज्वैलर्स के नाम से दुकान है। बुधवार रात नौ बजे वह दुकान बंद कर रहे थे। उनके साथ उनका बेटा शशाक भी था। तभी सफेद रंग की बोलेरो से आए बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग की थी, जिसमें पिता व पुत्र घायल हो गए थे। गोली मारने के बाद बदमाश शशाक के कंधे पर टंगे दोनों बैग लूट ले गए थे, जिसमें लैपटाप थे। देर रात पुलिस ने सुरेश के बर्रा विश्वबैंक निवासी साढ़ू मनोज कुमार सोनी की तहरीर पर लूट और हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर सीसीटीवी फुटेज खंगालने शुरू किए थे। बदमाशों के पुरानी मौरंग मंडी चौराहे की ओर भागने की जानकारी हुई थी। पुलिस की छानबीन में सामने आया कि बदमाश मौरंग मंडी चौराहे से दाहिने मुड़कर डबल पेट्रोल पंप वाले गौशाला चौराहे पहुंचे। यहा से बाएं मुड़कर उस्मानपुर रोड से भागे। आगे के रूट के लिए पुलिस अब साकेत नगर सब्जीमंडी और दीप तिराहे पर लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाल रही है।

----

पूछताछ के बाद छोड़े सातों संदिग्ध

लूट के 50 मिनट बाद भौती बाईपास के पास पकड़े गए बोलेरो सवार सातों संदिग्धों को पुलिस ने पूछताछ के बाद छोड़ दिया है। पुलिस के मुताबिक सातों के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं मिले।

------

आठ बोलेरो का कराया जा रहा सत्यापन

एडीसीपी साउथ ने बताया कि बदमाशों की धरपकड़ के लिए कई टीमें लगाई गई हैं। दो टीमों को गैरजनपद भेजा गया है। कानपुर देहात स्थित बाराटोल और उन्नाव के नवाबगंज टोल प्लाजा से घटना के बाद के समय की फुटेज निकलवाई हैं। दोनों टोल से आठ बोलेरो निकली हैं। सभी का ब्योरा निकलवाकर सत्यापन कराने का काम किया जा रहा है।

----

पुराने बदमाशों का फुटेज से कराया जा रहा मिलान

एडीसीपी साउथ ने बताया कि घटनास्थल के आसपास मिले सीसीटीवी फुटेज से पुराने अपराधियों का मिलान कराया जा रहा है। तीन लोग वारदात में शामिल रहे हैं। तीनों की उम्र 40 वर्ष से अधिक है। पेट निकला हुआ है। फुटेज साफ न होने से पहचान में दिक्कत हो रही है। रेकी करते कैद हुए संदिग्ध का हुलिया देखा जा रहा है। इससे मिलते जुलते कद काठी वालों की तलाश जारी है।

----------------

दो गोलिया मारी थीं शशाक को, लखनऊ रेफर

जासं, कानपुर : सराफा कारोबारी पिता-पुत्र को गोली मारकर लूट के मामले में सामने आया है कि बदमाशों ने शशांक उर्फ यशु को दो गोलिया मारी थी, जिसकी हालत चिंताजनक बनी हुई है। वहीं पिता सुरेश वर्मा की हालत में सुधार है। डाक्टरों ने शशांक का एक आपरेशन किया था, लेकिन दूसरी गोली नहीं निकाली जा सकी है। स्वजन उसे लखनऊ के अपोलो हास्पिटल ले गए हैं।

एम-ब्लाक किदवई नगर निवासी सुरेश वर्मा बुधवार रात दुकान बंद कर रहे थे। बेटा शशाक पड़ोसी सर्वेश अग्निहोत्री की बेकरी की दुकान पर बैग टागे खड़ा था। इसी बीच बिना नंबर वाली बोलेरो से आए बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलिया चलाई थीं। दो गोलिया लगने से शशाक वहीं गिर पड़ा था। पिता उसने उठाने पहुंचे तो बदमाशों ने उन्हें भी गोली मारी। दाहिने हाथ में गोली लगने से वह भी घायल हो गए थे। दोनों को पहले रीजेंसी हास्पिटल गोविंद नगर फिर वहा से सर्वोदय नगर भेजा गया। जहा सुरेश का प्राथमिक उपचार कर दिया गया था। शशाक की हालत गंभीर पर उसे आइसीयू में शिफ्ट किया गया था। स्वजन के मुताबिक शशाक के सीने में लगी गोली आरपार हो गई थी। दूसरी गोली कंधे में फंसी थी। डाक्टर ने एक आपरेशन किया था। दूसरा आपरेशन कर गोली निकालने में डाक्टर जान का खतरा बता रहे थे। गुरुवार को स्वजन ने उसे अपोलो हास्पिटल रेफर कराया। पार्षद प्रमोद जायसवाल ने बताया कि दोपहर में एंबुलेंस से स्वजन शशाक को लखनऊ ले गए।

--------

पहली बार किसी लूट में बदमाशों ने राइफल से की फायरिग

अभी तक तमंचा, पिस्टल से फायर कर लूटपाट की वारदातों को अंजाम देना तो सुना गया है, लेकिन के-ब्लाक किदवई नगर में सर्राफ पिता-पुत्र को गोली राइफल से मारने की पुष्टि हुई है। पुलिस ऐसी पुरानी वारदातों की जानकारी जुटा रही है, जिसमें राइफल से फायर करके लूटपाट की गई हो। पुलिस ऐसे गैंग की तलाश में जुटी है जो राइफल से फायरिग करके लूटपाट की घटनाओं को अंजाम देते है। पुलिस को राइफल के लाइसेंसी होने की आशंका है।

--------

बदमाशों की गाड़ी में थी बिना कवर की स्टेपनी

एडीसीपी साउथ ने बताया कि बदमाश जिस बोलेरो से घटना को अंजाम देने आए थे उसमें बिना कवर की स्टेपनी लगी थी। सामान्य तौर पर बोलेरो में स्टेपनी के ऊपर प्लास्टिक का कवर लगता है। वहीं पनकी में जो सफेद रंग की बिना नंबर वाली बोलेरो पकड़ी गई थी उसमें स्टेपनी थी ही नहीं।

--------

राइफल से फायरिग करके लूटपाट करने का नया तरीका सामने आया है। पुराने बदमाशों से हुलिये का मिलान किया जा रहा है। वहीं सितंबर में हुई घटना में जो नंबर सर्विलांस टीम ने निकाले थे, उन्हें यहां से उठाए गए डाटा बेस से मिलान कराया जा रहा है।

मनीष सोनकर, एडीसीपी साउथ

-----

महत्वपूर्ण तथ्य

- 22 जगह के खंगाले गए हैं सीसीटीवी कैमरे

- दावा दोनों संदिग्धों के बारे में मिले अहम सुराग

- गिरफ्तारी के लिए तीन व जांच पड़ताल को पांच टीमों का गठन किया गया

- सर्विलांस की मदद से 150 नंबरों की जांच जारी

Edited By: Jagran