कानपुर, जेएनएन। थैलेसीमिया से ग्रसित बच्चों को बचाने की कोशिशों के तहत कमिश्नरेट पुलिस ने अब थाने-थाने रक्तदान शिविर लगाने का फैसला किया है। इस बार रविवार को कोतवाली थाने में रक्तदान शिविर आयोजित किया जाएगा।

इन दिनों ब्लड बैंक में रक्त की काफी ज्यादा कमी है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण कोरोना है। वहीं वैक्सीनेशन कराने के बाद रक्तदान नहीं करने की शर्त की वजह से भी रक्तदानियों की संख्या में बड़ी गिरावट आई है। जनपद में रक्त की अधिक कमी को दृष्टिगत रखते हुए मेडिकल कालेज ब्लड बैंक प्रभारी डा. लुबना खान ने पिछले दिनों पुलिस आयुक्त से भेंट कर पुलिस से सहयोग का अनुरोध किया था। रक्तदान को प्राथमिकता देते हुए पुलिस आयुक्त के निर्देश पर अब प्रत्येक रविवार को एक थाने के द्वारा स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का आयोजन किया जाएगा। एलएलआर ब्लड बैंक की टीम रक्तदान शिविर का नेतृत्व करेगी। पुलिस आयुक्त असीम अरुण ने बताया कि थैलेसीमिया से ग्रसित बच्चे, गर्भवती महिलाओं, सड़क दुर्घटना आदि मामले में रक्त की तत्काल जरूरत पड़ती है। इसलिए यह अभियान शुरू किया गया है। इस पहल को "आइये नये रिश्ते बनाएं, रक्तदान कर जिंदगी बचाएं" का नाम दिया दिया गया है। पुलिस आयुक्त ने बताया कि हर रविवार थाने पर आयोजित रक्तदान शिविर में पुलिसकर्मियों व उनके परिवार के लोगों के अलावा सम्मानित नागरिक भी रकतदान कर सकते हैं। इस बार कोतवाली थाना परिसर में रक्तदान शिविर का आयोजन किया जाएगा। रक्तदान करने वाले रक्तदानी को पुलिस आयुक्त के द्वारा प्रशस्ति पत्र से सम्मानित भी किया जायेगा। गौरतलब है कि  पुलिस कमिश्नर कानपुर के अभियान में अब तक 43 लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान किया है।

 

Edited By: Shaswat Gupta