कानपुर, जेएनएन। अगले वर्ष होने जा रहे उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए पार्टी ने पुरनरीक्षण कार्य शुरू होने पर हर विधानसभा क्षेत्र में 15 से 20 हजार नए मतदाता जोड़ने का लक्ष्य तय किया है। साथ ही पार्टी मतदाता पुनरीक्षण का कार्य शुरू होने से पहले बूथ स्तरीय एजेंट की नियुक्ति करके लक्ष्य पूरा कराएगी।

भाजपा ने विधानसभा चुनाव को लेकर अपना रोड मैप तैयार कर लिया है। इसको लेकर ही अब पार्टी की बैठकें भी शुरू हो चुकी हैं। एक सितंबर से मतदाता पुनरीक्षण का कार्य होता है। विधानसभा चुनाव से पहले के मतदाता पुनरीक्षण के कार्य को पार्टी काफी गंभीरता से लेने जा रही है। पार्टी ने जिला संगठनों के हर विधानसभा क्षेत्र में 15 से 20 हजार मतदाताओं को जोड़ने के निर्देश दिए हैं। कानपुर में 10 विधानसभा क्षेत्र हैं, इसका मतलब कानपुर में पार्टी डेढ़ से दो लाख नए मतदाताओं को जोड़ेगी। इसके लिए जिला संगठन को बूथ स्तर पर ही अपने अभियान को बढ़ाना पड़ेगा। इनकी सहायता पन्ना प्रमुख भी करेंगे।

वह यह देखेंगे कि उनके पास जो आवास हैं, उनमें किन लोगों का नाम मतदाता सूची में नहीं है। इन नामों को वे अपने पास नोट भी करेंगे और अभियान शुरू होंने के समय वे इन नामों को मतदाता बनवाने के लिए उनके फार्म भी भरवाएंगे। पार्टी का मानना है कि जिन लोगों को पार्टी मतदाता बनाएगी, उनका वोट उसे ही मिलेगा। इससे हर बूथ में 15 से 20 हजार वोट का आधार पार्टी चुनाव में उतरने से पहले ही तैयार कर लेगी। जिन विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी करीबी लड़ाई मान भी रही है वहां भी इन नए मतदाताओं के जरिए पार्टी विपक्षी दल के प्रत्याशी पर अपनी बढ़त भी बना सकेगी। यह कवायद पार्टी के ओवरआल रिजल्द को भी बेहतर कर सकेगा।

Edited By: Abhishek Agnihotri