कानपुर, जेएनएन। भारतीय कृत्रिम अंग निर्माण निगम (एलिम्को) में शनिवार से उपकरण और कृत्रिम अंग निर्माण शुरू हो गया है। जल्द ही उनका वितरण किया जाएगा। इसके लिए सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रॉसीजर (मानक संचालन प्रक्रिया) बनाया है। इसमें देश भर के 135 शहरों के 97 हजार दिव्यांगों को करीब 100 करोड़ रुपये के उपकरण दिए जाएंगे।

सबसे पहले ग्रीन जोन में होगा वितरण

कोरोना संकटकाल की वजह से सबसे पहले ग्रीन जोन में वितरण होगा। इस बार उपकरण ब्लॉकवार पहुंचाए जाएंगे, इसकी जिम्मेदारी पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को दी गई है। अहमदाबाद, असोम, हैदराबाद समेत अन्य हिस्सों में पहले से ही काफी उपकरण रखे हैं। वहां लॉकडाउन की वजह से वितरण नहीं हो सका था। अब उसका भी वितरण कराया जाएगा।

सैनिटाइज कराकर भेजेंगे उपकरण

एलिम्को अधिकारियों का दावा है कि सभी उपकरण सैनिटाइज कराकर शहरों में भेजे जाएंगे। उनकी पैकिंग भी पुलिस और प्रशासनिक अफसरों के सामने खोली जाएगी। वितरण के लिए 30-30 लाभार्थियों के बैच बनाए जाएंगे। उन्हें टाइम एलॉट होगा, जिससे उन्हें पता चल सकेगा कि सुबह, दोपहर, शाम किस समय आना है। उन्हें शारीरिक दूरी का पालन कराया जाएगा।

चार हजार मोटराइज्ड ट्राईसाइकिल समेत कई उपकरण बंटेंगे

ट्राईसाइकिल, मोटराइज्ड ट्राईसाइकिल, बैसाखी, छड़ी, सेंसरयुक्त छड़ी, कान की मशीन, मोबाइल, कृत्रिम पैर, फोन आदि शामिल हैं। इस बार चार हजार मोटराइज्ड ट्राईसाइकिल बांटी जाएगी। एलिम्को के सीएमडी डीआर सरीन ने बताया कि स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रॉसीजर तैयार करके सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रलय की ओर से निर्देश भेजे जाने वाले हैं। इसके बाद जल्द उपकरण वितरित किए जाएंगे।

Posted By: Abhishek Agnihotri

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस