उन्नाव, जागरण संवाददाता। बीघापुर तहसील के गढ़ेवा कानपुर मार्ग पर गंगा नदी की कटान होने से आवागमन बंद है। प्रशासन की सख्ती के बाद भी इस मार्ग पर जान जोखिम में डाल कर वाहन दौड़ाए जा रहे हैं। गुरुवार सुबह अचानक मार्ग के कुछ भाग की कगार कट गई। जिसकी चपेट में आने से बाइक सवार बाइक समेत नदी में चला गया। शोर सुनकर ग्रामीण मदद के लिए मौके पर पहुंचे और उसे सकुशल बाहर निकाला।

बीघापुर तहसील क्षेत्र के गांव गढ़ेवा होते हुए सीधे कानपुर जीटी रोड पर जुड़ता है। जिससे कानपुर, फतेहपुर, प्रयागराज जाने वाले लोगों को सुविधा मिलती है। साथ ही क्षेत्र के किसानों के लिए कानपुर मंडी भी मिलती है। बीते वर्ष गढ़ेवा मार्ग पर पड़ने वाले गंगा नदी पुल के पास कटान की चपेट में आने से सड़क पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई थी। लोक निर्माण विभाग ने संपर्क मार्ग पर दीवार खड़ी कर आवागमन प्रतिबंध कर दिया था। इसके बाद भी दो पहिया वाहन व पैदल यात्री आवागमन कर रहे हैं।

गुरुवार को कानपुर नगर के महराजपुर के ग्राम नमा खेड़ा निवासी युवक रंजीत कुमार जो धानीखेड़ा में अस्पताल चलाते हैं, बाइक से धानीखेड़ा से गढ़ेवा की तरफ जा रहे थे। गढ़ेवा के आगे बढ़ते ही अचानक नदी के किनारे पहुंचने पर किनारे की कगार कट गई। जब तक रंजीत कुछ समझ पाते बाइक समेत सीधे गंगा में नीचे जा गिरे।

कानपुर की तरफ से आ रहे भागू खेडा निवासी अमित शुक्ला की नजर रंजीत पर पड़ी तो उन्होंने आसपास के लोगों की मदद लेकर उसे और उसकी बाइक को किसी तरह पानी से बाहर निकाला। ग्रामीणों ने कहा कि मजबूरी में लोग जान जोखिम डालकर निकलते है। नहीं तो उनको 50 से 60 किमी का चक्कर काटकर आना जाना पड़ता है। उक्त मार्ग का पुनर्निर्माण कराने की लोगों ने मांग की।

Edited By: Abhishek Agnihotri