औरैया, जागरण संवाददाता। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष स्वर्गीय धनीराम वर्मा की पत्नी रामदेवी ने बेटे, बहू और पौत्र पर गंभीर आरोप लगाए हैं। गुरुवार को दिबियापुर थाने में तहरीर देकर कहा कि तीनों ने मिलकर बैंक खाते से पेंशन समेत जमा धनराशि निकाल ली। जो तकरीबन 26 लाख रुपये थी, उसे हड़प लिया गया। थाना प्रभारी शशिभूषण मिश्रा ने बताया कि बेटे उमेश वर्मा, उनकी पत्नी स्नेहलता और पौत्र सुमित के विरुद्ध रिपोर्ट लिखी गई है। एसपी अभिषेक वर्मा का कहना है कि मामला संज्ञान में है, जांच की जा रही है, मुकदमा लिखा गया है।

बेला थाने के पूर्वा सुजान निवासी लगभग 80 वर्षीय रामदेवी पत्नी स्वर्गीय धनीराम वर्मा ने लडख़ड़ाती जुबान से पुलिस को बताया कि भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ)की बिधूना शाखा में उनके खाते में पेंशन आती है, उसे बेटे उमेश वर्मा, उसकी प्राथमिक विद्यालय कोहराई में सहायक अध्यापक पत्नी स्नेहलता वर्मा, पौत्र सुमित वर्मा ने पेंशन और जमा पैसा यह कहकर निकला लिया कि यदि पैसा नहीं निकाला जाता है तो सरकार वापस ले लेगी। इसलिए उसे निकाल कर दूसरे बैंक खाते में सुरक्षित करना जरूरी है।

उनकी बातों में आकर बैंक पहुंच कर खाते से रुपये निकाले। इस दौरान बहू और पौत्र साथ थे। वे यहां से दिबियापुर ले गए, वहां जिला सहकारी बैंक में पैसा जमा करने की बात कही। कुछ दिनों पहले जब स्वास्थ्य खराब हुआ तो खाते से रुपये निकालने की बात कही, जिसको अनसुना कर दिया गया। उपचार के लिए मजबूरी में लखनऊ बेटी के यहां जाना पड़ा। लौटने के बाद जिला सहकारी बैंक में पता लगाया तो मालूम हुआ कि कोई खाता ही नहीं खुला है। शाखा प्रबंधक से पता लगा कि रकम बहू और पौत्र ने अपने बैंक खाते में जमा करा ली है। पूरी बात बेटे से बताई तो उसने अनसुना कर दिया।

राजनीतिक गलियारे में रही चर्चा- पूरे मामले की राजनीतिक गलियारे में चर्चा रही। वृद्धा रामदेवी के चार बेटों में बिधूना से पूर्व विधायक रहे महेश वर्मा की मौत हो चुकी है। उनकी पत्नी रेखा वर्मा इस सीट पर मौजूदा सपा विधायक हैं। उनसे इस मामले में बात करने का प्रयास किया गया तो कहा कि बाद में बात की जाएगी।

Edited By: Abhishek Agnihotri