चित्रकूट, जेएनएन। सनातन धर्म की ध्वजा पूरे विश्व में फहराने वाले विश्व ङ्क्षहदू परिषद (विहिप) के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष रहे अशोक सिंहल को गुरुवार को चित्रकूट में मरणोपरांत सनातन धर्म रत्न पुरस्कार से नवाजा गया। कानपुर की सनातन मंदिर चेतना सोसाइटी की ओर से पूर्व में घोषित पुरस्कार संस्था के संरक्षक पद्मविभूषित जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य जी महराज ने विहिप के प्रांत मंत्री मधुराम को सौंपा। पुरस्कार के रूप में संस्था ने एक लाख रुपये नकद दिए हैं। ये धनराशि राम मंदिर निर्माण में इस्तेमाल की जाएगी। 

जगद्गुरु को दिया गया था वर्ष 2019 का पुरस्कार 

जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज वर्तमान में चित्रकूट में कामदगिरि की तलहटी के पास श्रीरामकथा सुना रहे हैं। गुरुवार को सोसाइटी की ओर से कथा स्थल पर ही वर्ष 2020 का सनातन धर्म रत्न पुरस्कार विश्व ङ्क्षहदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष स्वर्गीय अशोक सिंहल को दिया गया। सचिव अजय मिश्र ने बताया कि विहिप के वरिष्ठ नेता दिनेश व चंपत राय के निर्देश के तहत पुरस्कार प्रांत संगठन मंत्री ने लिया। पुरस्कार की एक लाख रुपये की धनराशि श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय को सौंपी जाएगी। संस्था के सदस्यों ने मकर संक्रांति के मौके पर भगवान कामतानाथ के दर्शन करके पूजा-अर्चना भी की। इससे पहले यह पुरस्कार वर्ष 2019 में जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज को दिया जा चुका है।

ये लोग रहे मौजूद 

संस्था के सदस्य अधर किशोर मिश्रा, अशोक गुप्ता अचानक, विनय मिश्रा, अनिल पांडेय, अनूप अवस्थी, भरत दुबे, ज्ञान प्रकाश त्रिवेदी, विप्लव अवस्थी, राजीव अग्निहोत्री, कौशल किशोर शुक्ला रहे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021