मिली कामयाबी ------

- डकैती का आरोपित संचालित कर रहा था फैक्ट्री, दो शातिर फरार

- क्राइम ब्रांच व बिधनू पुलिस ने की संयुक्त कार्रवाई

जागरण संवाददाता, कानपुर : विधान सभा चुनाव से पहले कानपुर आउटर क्राइम ब्रांच और बिधनू पुलिस की संयुक्त टीम ने घाटमपुर में छापेमारी करके अवैध असलहा फैक्ट्री पकड़ी। यह फैक्ट्री डकैती का एक आरोपित संचालित कर रहा था। यहां बड़ी संख्या में तैयार और आधे बने हुए असहले, कच्चा माल और उपकरण बरामद हुए हैं। पुलिस टीम ने सरगना समेत तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। दो आरोपित मौके से फरार हो गए। एसपी आउटर ने बताया कि आरोपितों पर गैंगस्टर लगेगा।

बीते मंगलवार की रात 8:20 बजे बिधनू पुलिस रिद नदी के पास चेकिग कर रही थी। चेकिग में एक संदिग्ध को तमंचे और कारतूस के साथ पकड़ा गया था। पूछताछ में उसने अपना नाम घाटमपुर नंदना निवासी जगजीवन पासी बताया था। उसने बताया कि गड़रियनपुरवा घाटमपुर निवासी शिववरन तमंचा बनाता है। उसी से खरीदा था। इसके बाद क्राइम ब्रांच और बिधनू की संयुक्त टीम ने 9:25 बजे गड़रियनपुरवा में सरगना के घर पर दबिश देकर शिववरन और उसके साथी पंकज यादव को दबोचा। उनकी निशानदेही पर पुलिस ने तिलसड़ा गांव में एक खेत में बनी कोठरी में दबिश दी तो वहां फैक्ट्री चलती मिली। वहां काम कर रहे दो शातिर मौके से भागने में कामयाब रहे। पुलिस ने मौके से 315 बोर के 20, 312 बोर की दो अद्धी, तीन आधी बनी हुई अद्धी, कई अर्धनिर्मित तमंचे, शस्त्र बनाने के उपकरण और कच्चा माल बरामद किया है।

----------

10 से 15 हजार में करते थे बिक्री

आरोपितों ने बताया कि वे असलहों को दस से 15 हजार रुपये में बेचते थे। विधानसभा चुनाव से पूर्व आरोपितों ने कानपुर देहात, घाटमपुर, बिधनू, सचेंडी समेत कई इलाकों में असलहों की सप्लाई की थी।

----------

पहले भी जा चुका है जेल

एसपी आउटर अजीत कुमार सिन्हा ने बताया कि पकड़ा गया आरोपित शिववरन वर्ष 2007 में डकैती का आरोपित है। वह शस्त्र अधिनियम के मामले में भी जेल जा चुका है। चुनाव से पहले बड़ी बरामदगी हुई है। असलहे खरीदारों की तलाश की जा रही है।

Edited By: Jagran