उन्नाव, जेएनएन। उन्नाव कांड में दुष्कर्म पीडि़ता के पिता की हत्या के मामले में बुधवार को अदालत में सुनवाई हुई। इस दौरान एप्पल इंडिया ने शपथपत्र दायर कर बताया कि आरोपित विधायक कुलदीप सेंगर के आइ-फोन का जीपीएस डाटा उसके पास नहीं है। जीपीएस डाटा उपभोक्ता के फोन में की गई सेटिंग पर निर्भर करता है। फोन का डाटा आइ क्लाउड में सहेजने की व्यवस्था है, लेकिन जीपीएस डाटा के साथ ऐसा नहीं है। 24 घंटे में यह खत्म हो जाता है। वहीं फोन चोरी या गुम होने की स्थिति में उसकी तुरंत रिपोर्ट करने पर जीपीएस की अंतिम लोकेशन को सहेजा जाता है।

अदालत ने एप्पल कंपनी से आरोपित कुलदीप सेंगर के आइ-फोन के जीपीएस डाटा की जानकारी मांगी थी। अदालत ने एप्पल से पूछा था कि जब पीडि़ता के पिता को जब बेरहमी से पीटा गया था, तो सेंगर के आइ-फोन की लोकेशन क्या थी, अदालत के पूछने पर अब एप्पल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड की तरफ से यह जानकारी दी गई है। वहीं बुधवार को मृतक की मां से जिरह पूरी हो गई। पीडि़ता की बड़ी बहन का बयान भी अदालत में दर्ज होने के बाद उससे जिरह शुरू हो गई थी।

पीडि़ता के पिता को अवैध हथियार रखने के फर्जी मामले में फंसाकर गिरफ्तार कर लिया गया था और इसके बाद पुलिस हिरासत में बेरहमी से पिटाई के कारण उनकी मौत हो गई थी। इस मामले में विधायक कुलदीप सेंगर और पुलिस कर्मियों सहित कुल 11 आरोपित हैं। उन्नाव कांड से जुड़े सभी मामलों की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर तीस हजारी अदालत में सत्र न्यायाधीश धर्मेश शर्मा की अदालत में हो रही है।

Posted By: Abhishek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप