बांदा, जेएनएन। देहात कोतवाली क्षेत्र के महोखर गांव में कुएं की सफाई के दौरान छह प्राचीन बंदूकें और एक तलवार मिली। ग्रामीणों ने सफाई कार्य और आगे बढ़ाया तो एक पीतल का कलश, एक लोटा भी मिला। जानकारी होने पर देखने के लिए पूरे गांव व आसपास के लोग पहुंच गए। ग्राम प्रधान की सूचना पर पहुंचे सीओ सिटी ने सभी बंदूकों और अन्य सामग्री को कब्जे में लिया है। बंदूकों को आजादी की लड़ाई से भी जोड़ा जा रहा है। पुलिस की मानें तो ये बंदूकें चालीस साल पुरानी प्रतीत हो रही हैं।

जनपद में इस समय डीएम ने कुआं व तालाब जियाओ अभियान चला रखा है। अभियान के तहत करीब एक सप्ताह पहले देहात कोतवाली क्षेत्र के ग्राम महोखर गांव में बनपारो कुएं की सफाई शुरू कराई गई थी। इसमें आठ मजदूर लगे थे। पांच दिन पहले सफाई के दौरान मजदूर देवनाथ को एक पुरानी बंदूक मिली तो मजदूरों ने इसे वहीं रख दिया। अगले दिन सफाई में फिर से पांच प्राचीन बंदूकें मिली तो ग्रामीणों की उत्सुकता और बढ़ गई। सफाई कार्य आगे बढ़ा तो एक पीतल का कलश, एक लोटा मिला।

ये सभी बंदूकें अत्यंत जीर्ण शीर्ण हैं। बुधवार को ग्राम प्रधान राम सजीवन वर्मा ने इसकी जानकारी जिलाधिकारी समेत उच्चाधिकारियों को दी। सूचना के बाद भी पुलिस अफसर गांव नहीं पहुंचे। शुक्रवार को ग्रामीणों के हंगामा करने के बाद जिलाधिकारी के निर्देश पर पुलिस मौके पर पहुंची। सीओ सिटी राजीव प्रताप सिंह का कहना था कि पहले के समय में गोली की जगह जो बारूद भरकर बंदूकें इस्तेमाल होती थीं। वहीं बंदूकें व उनके पुर्जे आदि बरामद हुए हैं। वर्तमान में इनका लाइसेंस नहीं बनता है, लग रहा है कि इन्हें तोड़कर कुएं में फेंक दिया गया है। पुलिस के अनुसार पुरातत्व विभाग को भी सूचना दी जाएगी। 

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस