कन्नौज, जेएनएन। सपा मुखिया अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि हमारे हिंदू समाज में साधु-संतों और योगी का सम्मान होता है। उनकी ऐसी भाषा नहीं होती। इसलिए सीएम को इस तरह की भाषा शोभा नहीं देती। दरअसल नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में शाहीन बाग में दिए जा रहे धरने पर बुधवार को मुख्यमंत्री ने कहा था कि पुरुष रजाई में और महिलाएं चौराहे पर हैं।

मैं हर समस्या पर बहस करने को तैयार

सपा मुखिया ने छिबरामऊ में प्रेस वार्ता करते हुए कहा कि झांसी की रानी लक्ष्मीबाई भी आत्मसम्मान के लिए मैदान में कूदी थीं। ये महिलाएं भी सम्मान के लिए आंदोलन कर रही हैं। अमित शाह पर भी हमला बोलते हुए कहा कि लोकतंत्र में किसी राजनेता की ऐसी भाषा नहीं होती, जो ये लोग बोल रहे हैं। मैं शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, हाईवे हर जनसमस्या पर बहस करने को तैयार हूं। छिबरामऊ बस हादसे पर उन्होंने कहा कि ये कितने शर्म की बात है कि मरने वालों की संख्या नहीं बताई गई। बोले, यूपी में सरकार बनने पर मृतकों के स्वजनों को 20-20 लाख रुपये देंगे।

हमें सौंप दें काम, एक माह में हो जाएगा जीटी रोड का चौड़ीकरण

अखिलेश ने कहा कि लोकसभा का पहला सत्र खत्म होने पर वह छिबरामऊ आएंगे। बस हादसे में मरने वालों के स्वजनों को एक-एक लाख रुपये और घायलों को 20-20 हजार रुपये देंगे। जीटी रोड के चौड़ीकरण का काम सुस्त होने पर बोले कि हमे दे दें, एक साल में सड़क निर्माण हो जाएगा। किसानों को मुआवजा कम मिलने के सवाल पर उन्होंने कहा कि सरकार बनवाइए, चार गुना मुआवजा पाइए। बोले, किसानों की जो समस्याएं हैं, वे एकजुट होकर उनसे मिलें। उनकी समस्याओं को वह लोकसभा में उठाएंगे। इसके बाद वह कारगिल शहीद राकेश की प्रतिमा का अनावरण करने फर्रुखाबाद के मोहम्मदाबाद को निकल गए। 

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस