जागरण संवाददाता, कानपुर : नगर निगम के अभियंताओं व ठेकेदार की लापरवाही के चलते नौ लाख रुपये से बनी सड़क दो दिन में ही पानी में बह गई। जनता के कहने के बाद भी ठेकेदार व अभियंताओं ने लीकेज ठीक नहीं कराया और सड़क बना दी। गुरुवार को सड़क पर पानी भरने से उखड़ गई। इस पर क्षेत्रीय लोगों में आक्रोश है। उनका कहना है लापरवाही बरतने वाले ठेकेदार और अभियंताओं पर कार्रवाई की जाए।

पर्यावरण उद्यान बर्रा दो में पांच साल बाद नगर निगम ने मंगलवार को सड़क बनाने का कार्य शुरू किया तो क्षेत्रीय जनता और पार्षद सुधा जितेंद्र सचान ने नगर निगम अफसरों से कहा कि लीकेज ठीक करा सड़क का निर्माण कराया जाए। अभियंताओं और ठेकेदार ने क्षेत्रीय जनता और पार्षद की बात अनसुनी कर दी। नौ लाख रुपये की सड़क बना दी। गुरुवार को सुबह लोग घरों से निकले तो लीकेज के कारण पानी भरने से सड़क उखड़ चुकी थी।

----------

सड़क का हाल

सड़क - पर्यावरण उद्यान बर्रा दो

लंबाई - तीन सौ मीटर

लागत - नौ लाख रुपये

बनना शुरू हुई - 12 अक्टूबर

उखड़ गई - 14 अक्टूबर

ठेकेदार - अखिलेश एसोसिएट

जिम्मेदार अभियंता

अवर अभियंता - राकेश गुप्ता

अधिशासी अभियंता - पुनीत ओझा

----------

लीकेज के बावजूद सड़क बनाने वाले ठेकेदार और अभियंता पर कार्रवाई होगी। इसकी जांच कराई जाएगी ।

एसके सिंह, मुख्य अभियंता नगर निगम

-----

सड़क निर्माण से पहले ही ठेकेदार और अभियंता से कहा था कि लीकेज ठीक कराने के बाद सड़क बनाई जाए।

सुधा जितेंद्र सचान, क्षेत्रीय पार्षद

Edited By: Jagran